खुली चुदाई की अजब दास्तां Part 1 – Devar Bhabhi Ki Chudai Ki Kahani

मस्तराम हिंदी सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि एक लंड एक चूत को चोदकर और एक चूत एक लंड से चुदकर संतुष्ट नहीं रहती है. चुदाई की ये प्यास इनको कहां तक लेकर जाती है?

हैलो फ्रेंड्स, कैसे हो आप सभी!
उम्मीद करता हूं कि आप सभी स्वस्थ होंगे और चुदाई का मज़ा ले रहे होंगे।

मैं हरजिंदर सिंह रोपड़ पंजाब से एक बार फिर आप सभी का स्वागत करता हूं।

आप मेरी पिछली कहानियां ऊपर लिखे मेरे नाम पर क्लिक करके सभी कहानियां एक ही जगह पर पढ़ सकते हैं.

मेरी पिछली कहानी थी: ममेरी सास और उसकी नवविवाहिता पड़ोसन

यह मस्तराम हिंदी सेक्स स्टोरी एक दिलचस्प स्टोरी है. यह सेक्स स्टोरी बिल्कुल सच्ची है. सिर्फ पात्रों के नाम बदल दिए गए हैं।

कहानी तीन औरतों और तीन मर्दों की है। तो अब बिना विलम्ब किये कहानी की शुरूआत करते हैं.

कहानी के एक पात्र का नाम है धर्मपाल सिंह. उम्र लगभग 32 साल थी उसकी और वो जॉब करता था. वो किराये के मकान में रहता था।

वो सुबह साढ़े आठ बजे घर से निकल जाता था और शाम को छह बजे वापस आता था।

उसका घर से बाहर काफी औरतों के साथ चक्कर था। उसकी बीवी हरप्रीत कौर 30 साल की थी. उसका रंग गेहुंआ, हाइट पांच फीट, मम्में 36 के, कमर 34 की और गांड 36 की थी.
वो एक चुदक्कड़ औरत थी।

धर्मपाल ने अपने खाली पड़े प्लाट पर मकान बनाने के लिए एक ठेकेदार को काम दे दिया, जिसका नाम जसवंत सिंह था. उसकी उम्र लगभग 40 साल थी।

धर्मपाल सिंह ने मैटीरियल इकट्ठा किया और उसका नया घर बनाने का काम चालू हो गया। धर्मपाल सुबह ड्यूटी पर चला जाता था और शाम को लौटता था।
कुछ दिन तक तो कुछ खास नहीं हुआ।

एक हफ्ते बाद जसवंत को किसी सामान की जरूरत पड़ गई।
सुबह के दस बजे थे। वो धर्मपाल के घर (किराये वाले घर) गया।
मेन गेट खुला ही था।

वो अंदर दरवाजे के पास गया जो कि बंद था। वो दरवाजा खटखटाने ही वाला था कि अंदर से उसे आह … आह … की आवाज़ें सुनाई दीं।

जसवंत भी चुदाई के मामले में बहुत सतर्क रहता था. इस मामले में वो भी पीछे नहीं था. वो न जाने अब तक कितनी औरतों और लड़कियों को भोग चुका था।

वो कुछ देर बिना आवाज़ किये अंदर से आ रही आवाज़ें सुनता रहा।
जब उसको पक्का मालूम हो गया कि अंदर चुदाई चल रही है वो वहीं बरामदे में बैठ गया और दरवाज़ा खुलने का इंतज़ार करने लगा।

लगभग दस मिनट बाद हरप्रीत ने दरवाज़ा खोला।
उसके बाल बिखरे हुए थे।

वो बाहर जसवंत को बैठा देखकर सन्न रह गई। उसके चेहरे का रंग उतर गया।
हरप्रीत ने बाल ठीक किये और बाहर आकर जसवंत से पूछा- भाई साहब, आप किसलिये आये थे? कुछ काम था क्या?

जसवंत- मुझे कुछ सामान चाहिए था. उसी के बारे में बताने आया था।

इतने में अंदर से एक शख्स बाहर आया जिसका नाम संजू था। वो लगभग हर दो दिन बाद आता था।
उसकी उम्र लगभग 42 साल थी।

संजू को देखकर जसवंत को यह तो पक्का हो गया हो गया था कि संजू हरप्रीत को चोद रहा था।

ये सब देखने के बाद जसवंत वापस साइट पर आ गया।
ग्यारह बजे के करीब हरप्रीत चाय लेकर आई और सभी चाय पीने लगे।
जसवंत हरप्रीत के पास में खड़ा होकर चाय पीने लगा और उससे बातें करने लगा।

उसने हरप्रीत को साफ लफ़्ज़ों में सुबह वाली बात के बारे में बताया कि उसने उसकी और संजू की आवाज़ें सुनी थीं.
और उसने साफ कह दिया कि उसको पता था कि अंदर चुदाई हो रही है.

हरप्रीत भी कम नहीं थी.
वो बोली- ठीक है, अगर तुम भी चोदना चाहते हो तो चोद लो. मुझे कोई आपत्ति नहीं है लेकिन मैं पूरे बिल में से फिर 25 हजार रूपये तुम्हें काटकर दूंगी.

जसवंत ने बोला- ठीक है मगर जब तक काम चलेगा, मैं तेरी चुदाई करूँगा।
हरप्रीत ने कहा- ओके!

डील होने के बाद जसवंत ने उसको उसी दिन दोपहर के बाद चुदाई के लिए आने को कहा.
वो बोली- दोपहर के बाद बच्चे स्कूल से वापस आ जाते हैं। दोपहर से पहले ही आ सकते हो.

वो बोला- तो फिर कल आऊंगा. अब तो वैसे भी 12 बजने वाले हैं.
उन दोनों का अगले दिन का चुदाई का प्रोग्राम फिक्स हो गया।

अगले दिन जसवंत 9 वजे हरप्रीत के साथ रूम में था। हरप्रीत ने कॉफी बनाई और दोनों ने कॉफी पी। हरप्रीत ने आज लोअर और टी शर्ट पहना हुआ था।

कॉफी पीने के बाद हरप्रीत उठी और बाहर जाकर उसने मेन गेट बंद किया और कमरे में आकर दरवाज़ा भी बंद कर लिया।

कमरे में आते ही जसवंत हरप्रीत पर एक भूखे शेर की तरह टूट पड़ा।
उसने हरप्रीत को पकड़ा और बेड पर गिरा दिया. वो खुद भी उसके ऊपर लेट गया और उसके गालों पर चूमने लगा। उसने उसके गालों पर चुम्बनों की झड़ी लगा दी।

जसवंत अपना एक हाथ उसकी छाती पर ले गया और उसने टीशर्ट के ऊपर से ही उसके निप्पल को पकड़ा और ज़ोर से दबा दिया।
हरप्रीत ने नीचे ब्रा नहीं पहनी थी। हरप्रीत के मुख से चीख निकल गई।

जसवंत ने गुलाब की पंखुड़ियों जैसे उसके होंठों पर अपने होंठ रखकर उसके होंठों का रसपान करना शुरू कर दिया. दोनों के होंठ मिल गये.

इधर हरप्रीत भी जसवंत का पूरा साथ दे रही थी। जसवंत उठा और साथ में ही हरप्रीत भी उठ गई।

दोनों ने एक दूसरे के कपड़े उतारे और जसवंत हरप्रीत की खूबसूरती को निहारने लगा।
जसवंत ने देखा कि उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं था और चूत फूलकर पाव रोटी हो गयी थी.

इधर जसवंत के तनाव में आते लंड को देखकर हरप्रीत के मुंह में भी पानी आ गया.

वो एकदम से नीचे बैठी और पूरा लन्ड मुंह में लेकर चूसने लगी।
जसवंत का लन्ड भी उसके तज़ुर्बे और उसके नर्म होंठों के स्पर्श को पाकर एकदम से तन गया।

अब लन्ड उसके गले तक जा रहा था। मगर वो इतनी अनुभवी थी कि लन्ड पूरा मुंह में लेकर चूस रही थी।
वो गोटियों को हाथ में लेकर हल्के हल्के मसलने लगी।

जसवंत की आंखें आनंद से बंद होने लगीं। जसवंत उसके लन्ड चूसने के अंदाज़ के आगे ज्यादा देर नहीं टिक पाया और उसने हरप्रीत का सिर पकड़ कर एक ज़ोर का झटका मारा।

लन्ड हरप्रीत के गले में उतर गया और जसवंत के लन्ड से वीर्य निकलने लगा।
हरप्रीत को सांस लेने में परेशानी होने लगी क्योंकि लन्ड का सुपारा उसके गले के अंदर जाकर फूल रहा था।

हरप्रीत पूरा वीर्य निकलने के बाद भी लन्ड को मुंह में ही लेकर मुख मैथुन का आनंद लेती रही.
उसने खुद से लंड को अपने मुंह से बाहर नहीं निकाला.

फिर जसवंत ने उसके मुंह से लन्ड निकाला और लेट गया.

जल्दी ही उसका लंड फिर खडा हो गया तो उसने हरप्रीत को डॉगी स्टाइल में होने को बोला।
हरप्रीत डॉगी स्टाइल में हो गई। हरप्रीत भी पता नहीं कितने लन्ड अपनी चूत में ले चुकी थी।

जसवंत ने लन्ड उसकी चूत पर रखा और झटका लगाया. लन्ड बहुत आराम से हरप्रीत की चूत में चला गया।

लंड अंदर जाते ही हरप्रीत के मुख से आह … की आवाज़ आई।
जसवंत उसकी चूत में लन्ड आगे पीछे करने लगा। जसवंत सुपारे तक लन्ड को चूत से बाहर निकालता और फिर दोगुनी स्पीड से जड़ तक चूत में उतार देता था।

हरप्रीत के चूचे हर झटके के साथ आगे पीछे हो रहे थे। जसवंत ने स्पीड तेज़ कर दी। हरप्रीत अब चरम सुख की ओर बढ़ रही थी। वो हर झटके का जवाब गांड पीछे की ओर धकेल कर दे रही थी।

चुदते हुए अचानक हरप्रीत के मुख से एक चीख निकली। उसकी चूत से कामरस निकलने लगा जिसके साथ जसवंत के लन्ड के साथ साथ उसके अंडकोष भी भीगने लगे।
झड़ते हुए अब हरप्रीत बिल्कुल शांत सी हो चुकी थी।

वो एकाएक पीठ के बल लेट गई. जसवंत का लन्ड उसकी चूत से बाहर आ गया।
हरप्रीत की सांसें तेज़ तेज़ चल रही थीं।

वो आंखें बंद किये हुए अपने चरम सुख की प्राप्ति का आंनद ले रही थी कि अचानक जसवंत ने चूत रस से भीगा लन्ड उसकी गांड के छेद पर टिका दिया।

इससे पहले कि हरप्रीत कुछ बोल पाती जसवंत ने लन्ड उसकी गांड में उतार दिया।
उसका लन्ड चूत रस से गीला हुआ पड़ा था इसलिए एक ही बार में पूरा फिसल कर गांड के अंदर चला गया।

अचानक हुए इस हमले के लिए हरप्रीत तैयार नहीं थी।
उसके मुंह से एक चीख निकली और साथ में ही आंखों से पानी भी निकल आया।
हरप्रीत ने पहले सिर्फ एक बार लन्ड गांड में लिया था।

उधर जसवंत के सिर पर अभी काम वासना का ऐसा भूत सवार हो गया था कि वो हरप्रीत का कोई दर्द महसूस नहीं कर रहा था।
वो बिना रुके उसकी गांड के छेद में लन्ड आगे पीछे कर रहा था।

टाइट गांड में उसका लन्ड पूरा टाइट जा रहा था। जहां जसवंत को बहुत मज़ा आ रहा था वहीं हरप्रीत का दर्द से बुरा हाल था।
जसवंत तब तक उसकी गांड में जोर जोर से लन्ड अंदर बाहर करता रहा जब तक उसके लन्ड ने हरप्रीत की गांड में वीर्य नहीं गिरा दिया।

हरप्रीत की गांड में वीर्य गिराने से उसकी गांड की अंदर से सिकाई होने लगी जिससे उसको दर्द से कुछ राहत मिल गई।
जसवंत ने लन्ड उसकी गांड से निकाल लिया और हरप्रीत की साइड में लेट गया।

कुछ देर की चूमा चाटी के बाद जसवंत वहाँ से निकल कर साइट पर आ गया।

इस तरह से जसवंत ने धर्मपाल की धर्मपत्नी की चुदाई करके अपनी हवस मिटा ली.

मगर बात यहीं खत्म नहीं हुई.

अब जसवंत तो काम पर था. मगर उसका भी अपना एक घर था.

मैं आपको उसी के घर लिये चलता हूं. यहां की चुदाई तो खत्म हो चुकी थी. अब जसवंत के घर में देखिये क्या चल रहा था.

जसवंत की बीवी थी हरदीप कौर जिसकी उम्र करीब 37 साल थी. कद पांच फीट तीन इंच था. उसका रंग दूध सा सफेद था. मम्में 38 के, कमर 34 की और गांड 38 की पूरी पीछे को उठी हुई।
उसकी गांड इतनी लाजवाब थी कि उसको देखकर किसी बूढ़े का लन्ड भी खड़ा हो जाये।

जैसे जसवंत को बाहर की चूत का चस्का था वैसे ही हरदीप भी न जाने कितने मर्दों के लन्ड अपनी चूत में ले चुकी थी.

जसवंत का एक दोस्त था लखविंदर जो जसवंत की ही उम्र का था. वो प्रॉपर्टी डीलर का काम करता था।
करीबन दो साल पहले जसवंत को काफी ज्यादा नुकसान हो गया था तो उसको घर तक बेचना पड़ गया था।

अभी जहां जसवंत रहता था वो लखविंदर की मेहरबानी से ही बना हुआ घर था।
या यूं कह लो कि लखविंदर ने अपनी रखैल को यह घर बना कर दिया हुआ था।

आज भी लखविंदर हरदीप को चोदने उसके घर आया हुआ था। हरदीप और लखविंदर कमरे में बेड पर एक दूसरे की बांहों में बैठे एक दूसरे के होंठों का रसपान कर रहे थे।

लखविंदर ने उठ कर अपने और हरदीप के सारे कपड़े उतार दिये।
हरदीप लखविंदर का लन्ड बड़े मजे से मुंह में भरकर चूसने लगी।

वो जसवंत (अपने पति) का लन्ड कभी भी मुंह में नहीं लेती थी। मगर वो लखविंदर का लंड पूरा गले तक अंदर ले रही थी।
लखविंदर उसकी लन्ड चूसने की कला का कायल था।

हरदीप ने दस मिनट में ही लखविंदर के लन्ड का पानी निकाल दिया; मुंह में वीर्य को वो पूरा का पूरा अंदर ही निगल गयी.
उसको भी मर्दों के वीर्य को पीने का बड़ा शौक था.

उसने लन्ड को चूसना जारी रखा. थोड़े ही टाइम में लंड फिर से पूरी तरह टाइट हो गया।

लखविंदर ने उसे डॉगी स्टाइल में किया और लन्ड उसकी चूत के मुख पर रखकर धीरे धीरे अंदर धकेलने लगा।
चूंकि हरदीप ने लन्ड मुंह में लेकर पूरा गीला कर दिया था इसलिए लन्ड पूरा फिसल कर चूत में चला गया।

अब लखविंदर ने धीरे धीरे स्पीड तेज़ कर दी।
हरदीप के मुख से हर झटके के साथ आह … आह … की आवाज़ें आने लगीं।
कमरा फच फच की आवाजों से गूंजने लगा.

लखविंदर ने इस पोजीशन में हरदीप को 10 मिनट तक चोदा।
तब उसने हरदीप को बेड पर लेटाया और उसकी टांगें मोड़कर अपने कंधों पर रख लीं।

लन्ड को चूत के मुख पर रखकर एक झटके से उसने लंड को चूत में उतार दिया. लंड को चूत में देकर वो बिना रुके लन्ड अंदर बाहर करने लगा।
उसका लन्ड एक पिस्टन की स्पीड से चूत के अंदर बाहर हो रहा था।

दोनों की सांसें कंट्रोल में नहीं थीं। लगभग 15 मिनट की चुदाई के बाद दोनों ने एक साथ पानी छोड़ दिया। लन्ड ने वीर्य से हरदीप की चूत को भर दिया।

वो दोनों एक दूसरे से लिपट गए।

लखविंदर ने लन्ड हरदीप की चूत से बाहर निकाला। दोनों का मिला जुला पानी हरदीप की चूत में से निकालने लगा।
हरदीप ने लखविंदर को चूमा.
लखविंदर फिर वहां से चला गया।

उधर जसवंत भी हरप्रीत को हफ्ते में दो से तीन बार चोदने लगा। इधर जसवंत की बीवी हरदीप को लखविंदर भी महीने में छह-सात बार चोद रहा था।

लखविंदर एक बार एक शादी में गया था जहां उसकी मुलाकात धर्मपाल से हुई। उसको धर्मपाल का स्वभाव इतना अच्छा लगा कि दोनों में काफी गहरी दोस्ती हो गई।

अब वो हर सप्ताहांत पर मिलने लगे। इन्हीं मुलाकातों में दोनों को एक दूसरे की पर्सनल लाइफ के बारे में कुछ पता चला।

उन दोनों का एक ही शौक था- घर से बाहर चुदाई करना।
दोनों ने अपने अपने चुदाई के कारनामे एक दूसरे को बताए।

लखविंदर ने धर्मपाल को हरदीप की फ़ोटो दिखाई और बताया कि हरदीप उसकी रखैल है।

धर्मपाल हरदीप की फ़ोटो देख कर पागल सा हो गया। उसने लखविंदर को बोला कि वो एक बार हरदीप को चोदना चाहता है।
लखविंदर ने भी बदले में किसी की चुदाई के लिए बोला।

इधर धर्मपाल ने भी उसको एक फोटो दिखाई जो कि धर्मपाल की गर्लफ्रेंड रुखसाना की थी।
रुखसाना की उम्र 27 साल, कद 5 फीट 4 इंच, रंग दूध सा सफेद, मम्में 38, कमर 34, गांड 38 की थी.
उसको देखकर किसी बूढ़े का भी लन्ड भी जवानी पर उतर जाए।

लखविंदर और धर्मपाल ने दो दिन बाद मिलने का वादा किया और वो दोनों अपने अपने घर चले गए।

दोस्तो, आपको यह मस्तराम हिंदी सेक्स स्टोरी पसंद आई होगी. आपको आगे भी स्टोरी में गर्म चुदाई का मजा मिलता रहेगा. इसलिए अपना फीडबैक देना न भूलें.
मेरा ईमेल पता है

मस्तराम हिंदी सेक्स स्टोरी का अगला भाग: खुली चुदाई की अजब दास्तां- 2

Posted in अन्तर्वासना

Tags - bhabhi ki chudai sex storychudai ki kahanichudai video hindi meinhindisexy kahaniyamastram sex storypadosiporn story in hindisec storiesआन्तरवासना