गर्म साली की जबरदस्त चुदाई – अंतर्बासना

साली जीजू सेक्स कहानी में पढ़ें कि मेरी साली मेरे घर रहने आई तो मेरा लंड उसे देखकर खड़ा होता था. मैंने कैसे उसकी कुंवारी चूत को अपने लंड का शिकार बनाया?

हाय मित्रो, मेरा नाम राकेश है और मैं दिल्ली का रहने वाला हूं। मेरी उम्र 24 साल है।

मैं अपने रंग रूप की क्या बात करूं … जो एक बार देख लेता है. मेरा मुरीद हो जाता है।
मेरे लन्ड की लंबाई 6.5 इंच और मोटाई 2.5 इंच है।

यह कहानी मेरी और मेरी साली के बीच बने संबंधों की है.
गोपनीयता के कारण मैंने इसने सभी का नाम बदल दिए हैं।
मेरी कहानी में कोई गलती हो तो माफ़ कर देना, बता देना ताकि आगे की कहानियों में उस गलती को सुधार सकूँ।

तो अब साली जीजू सेक्स कहानी पर आते हैं।

कहानी को शुरू करने से पहले मैं आपको अपनी साली के बारे में बता दूँ।

मेरी साली का नाम रोशनी है और वो अभी पढ़ाई कर रही है।

हमारे बीच सेक्स की शुरुआत लॉकडाउन में हुई.

हुआ यूं कि जब लॉकडाउन लगा तो उस वक्त मेरी पत्नी अपने मायके गई हुई थी. अचानक से लॉकडाउन लग गया और वो वहीं पर फंस गई।

इधर मैं अपने घर में अकेला बोर हो रहा था. तो मैंने बहुत जुगाड़ लगाए और मैं अपनी पत्नी को अपने घर ले आया.
और उसके बाद हमने बहुत दिन तक जमकर सेक्स किया.

और फिर ऐसे ही मैं अपनी साली से फोन पर बातें करने लगा। बातों बातों में उसकी सहेलियों के बारे में उससे पूछने लगा.
मेरी साली मुझसे सभी प्रकार की बातें कर लेती थी.
मैं उससे ऐसे ही उसके ब्वॉयफ्रेंड के बारे में पूछता रहता था कि कोई लड़का पसंद है क्या?
तो वो मना कर देती थी।

अचानक से मेरी पत्नी की तबियत खराब हो गई तो मुझे अपनी साली को उसकी देखभाल के लिए बुलाना पड़ा.

मैं उसे लेने चला गया और ले भी आया। मैं अपनी साली के आने से बहुत खुश था।

अब होती है असली कहानी शुरू!

जब वो हमारे घर आई तो बहुत खुश हुई और मैं भी बहुत खुश था।

उसके 2-3 दिन बाद मैंने गौर किया कि वो किसी से चोरी छिपे बात करती है.
ऐसे ही धीरे धीरे दिन बीतते गए और एक दिन मैंने उसे पकड़ लिया।

वो किसी लड़के से बात करती थी तो मुझे बहुत गुस्सा आया.
मैंने उसे बहुत ही बुरा भला कहा तो वो मुझसे माफ़ी मांगने लगी.

तो मैंने उसे बोला- माफ तो मैं कर दूंगा … पर एक शर्त पर कि तुम्हें मेरे साथ सब कुछ करना होगा.

पर वो झूठ मूठ का मना करने लगी- नहीं जीजू, ये सही नहीं है।
पर वो अंदर ही अंदर बहुत खुश थी उसने अपने दिल की बात मुझे बाद में बताई थी कि मैं भी आपको पसंद करती हूँ।

तो इस घटना के बाद हम सेक्स करने के लिए मौका ढूंढ ही रहे थे कि एक दिन मेरी बीवी को मेरे मम्मी पापा का काल आया और वो घर जाने के लिए बोलने लगी.
तो मैंने उसे बहाना बना दिया कि मुझे कुछ काम है तो वो मेरी देखभाल के लिए अपनी बहन को वहीं पर छोड़ गई।

अगले दिन सुबह मैं उसे बस में बिठा आया और वो घर चली गई.
मैं जैसे ही घर पहुंचा तो मैं घर में घुसते ही साली को ढूंढने लगा.

वो किचन में खाना बना रही थी.
तो मैं सीधा ही किचन में घुस गया और उसे पीछे से कस कर पकड़ लिया।

माफ़ी चाहता हूँ कि मैंने आपको अपनी साली के बारे में पूरा नहीं बताया।
उसके शरीर की बनवाट बहुत आकर्षित है।
उसका फिगर का साइज 34 इंच के बूब्स, 28 इंच की कमर और 32 इंच की गांड है।

मैं उसके बूब्स का दीवाना हो गया था तो मैंने उसे किचन में जाके पीछे से पकड़ लिया.
तो वो बोली- यार जीजू, पहले मैं खाना बना लूं, फिर खाना खा लो. उसके बाद आप मेरे साथ जो मन करे, वो कर लेना, मैं मना नहीं करूंगी.

तब हमने पहले खाना खाया और उसके बाद उसने बर्तन साफ करे और उसके बाद हम जीजा साली अपने बेडरूम में आ गए।

अब हमारा सेक्स का खेल शुरू हो गया. हम दोनों एक दूसरे को चूमने लगे और एक दूसरे को बांहों में भरकर जोर जोर से हग करने लगे.

हमारे होठ मिल गए, मैं उसके होठ चूसने लगा, हम एक दूसरे को जीभ से ही चोदने लगे।

और उसके बाद हमने धीरे धीरे एक दूसरे के कपड़े उतारे.
अब वो ब्रा और पैंटी में रह गई और मैं अब अंडरवियर में था.

अब हमारे लन्ड महाराज भी अपने अंदाज में आने लगे थे.

मेरी हॉट साली ने अंडरवियर के ऊपर से ही मेरा लंड पकड़ लिया और उसे दबाने लगी और बोलने लगी- जीजू आपका तो बहुत बड़ा है। दीदी की तो आपने फाड़ कर रख दी होगी. क्या मैं इसे झेल पाऊंगी? आप मेरी भी फाड़ दोगे.

तो मैंने उसे समझाया- मेरी प्यारी रानी, मैं तेरे साथ बहुत प्यार से सेक्स करूंगा, तुझे बिल्कुल भी दर्द नहीं करूंगा।

उसके बाद हमने एक दूसरे के बचे हुए कपड़े भी उतार दिए.

मैं साली की चूचियां पकड़ कर उसके दूध पीने लगा जैसे कोई छोटा बच्चा हो.
उसे भी मजा आने लगा तो वो बोली- आह हाँ जीजू … और जोर से चूसो … बहुत मजा आ रहा है।

उसके बाद मैं धीरे धीरे लन्ड को उसकी चूत पर रगड़ने लगा तो उसे भी मजा आने लगा.
तो वो बोलने लगी- अब बस पेल दो जीजू मेरी इस चूत को … बहुत सताया है इसने!

उसके बाद मैंने अपने लन्ड को थूक से गीला किया और उसकी चूत पर सेट करके धक्का लगाया.

मेरा आधा लन्ड अन्दर चला गया और वो जोर जोर से रोने लगी- हां जीजू, मुझे मार दिया आपने! मेरी चूत फाड़ दी आपने! मर गयी मैं, निकालो अपना लंड मेरी चूत से!

मैंने उसे धीरे धीरे समझाया और वो नॉर्मल हो गई.
और तब मैंने फिर दोबारा से धक्का लगाया, मेरा पूरा लन्ड अन्दर चला गया.

उसे जोर का दर्द तो होना ही था, दर्द के मारे वो जोर जोर से रोने लगी.
अपनी नंगी साली को जैसे तैसे मैंने चुप किया और मैं उसे चूमने लगा.

वो भी रोते हुए मुझे चूमने लगी.

और फिर हमारा सेक्स का खेल शुरू हुआ.

हमने लगातार 15 मिनट तक लगातार सेक्स किया मेरा लंड उसकी कसी चूत में लगातार अंदर बाहर होता रहा.

और उसके बाद हमने अपना पानी एक साथ छोड़ दिया और एक दूसरे को आगोश में लेकर चूमने लगे.

सफल चुदाई के बाद अब हम दोनों जीजा साली बहुत खुश थे।

मेरी साली सीलबंद थी, उसने पहले कभी सेक्स नहीं किया था तो उसकी चूत में से खून भी निकला था.

उसके बाद हमने उठ कर अपने यौनांगों को साफ़ किया.
उसे चूत में जलन हो रही थी.

एक घंटे बाद मैंने उसे फिर से चुदाई के लिए गर्म करना चाहा. मैंने उसके बूब्ज़ चूसे. उसे मजा आया.
फिर जब मैंने उसकी चूत में उंगली घुसानी चाही तो उसे दर्द और जलन हुई.
उसने मुझे चूत में उंगली नहीं डालने दी.

जब उंगली नहीं डालने दी तो लंड कहाँ से डालने देती.

मैंने उसे दवाई लाकर दी बाजार से कहाने की भी, लगाने की भी.

फिर अगले दिन मैंने उसकी दूसरी बार चुदाई की.

उसके बाद जब तक मेरी पत्नी नहीं आई तब तक हमने जम कर सेक्स किया.
और उसके आने के बाद भी जब हमें मौका मिला जैसे भी जहाँ भी … हमने वहीं पर सेक्स किया और अब हम एक दूसरे के साथ से बहुत खुश थे।

उसके बाद वो अपने घर चली गई और अब मैं फिर से अकेला सा महसूस करने लगा।

हमने इन दिनों इतना सेक्स किया कि हमें एक दूसरे की आदत सी हो गई थी और अब साली जीजू सेक्स के बिना एक पल भी रहना मुश्किल हो रहा था।

हम दोनों फोन पर डेली बात करते थे।
इसी लिए मैं घर से बाहर ही रहता था कि कहीं मेरी पत्नी को शक न हो जाए।

कि अगर उसे पता चल गया तो वो बखेड़ा खड़ा करेगी.
मैं उसे भी नहीं छोड़ सकता क्योंकि मैं अपनी बीवी के साथ बुरा नहीं करना चाहता.

बस अब मैं इसी उधेड़बुन में रहता हूँ कि अपनी साली की चूत को कैसे मारूं? उसे अपने पास कैसे बुलाऊं?
अगली कहानी में मैं बताऊंगा कि कैसे मैंने अपनी जवान साली की गांड मारी और उसने कैसे कैसे ड्रामे किए।
अब वो मुझसे अलग हो चुकी है पर मेरा मन नहीं मानता उसे छोड़ने का!

मेरी साली जीजू सेक्स कहानी पढ़ने के लिए धन्यवाद दोस्तो!
आप अपने विचार कमेंट्स में और मेल में मुझे अवश्य बताएं कि आपको यह कहानी कैसी लगी?

Posted in Family Sex Stories

Tags - bur ki chudaichut chudai storiescollege girldesi ladkihindi sex kahani audiohot girlkamvasnamaa bete ki chudai kahaninangi ladkihindi kahani xxxचुड़ै वाली वीडियो