गर्लफ्रेंड की चुदाई बहन के घर – Antarwasna Story

कहानी में पढ़ें कि मेरी पुरानी दोस्त काफी समय बाद मिली तो मैं उसकी जवानी का प्यासा हो गया. मैं उसकी चुदाई करना चाहता था. मैंने उसे कैसे चोदा?

मेरे प्यारे दोस्तो, कैसे हैं आप सब? आपने मेरी पिछली कहानी
मौसी की बेटी की चूत चुदाई का मजा
के लिए जो प्यार दिखाया है उसके लिए आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद.

अब आते हैं अगली कहानी पर. यह कहानी भी मेरी पिछली कहानी की तरह बिल्कुल सच्ची है; बस कुछ किरदारों के नाम और जगह बदल दी गयी है.

यह कहानी मेरी और मेरी गर्लफ्रेंड जया की है. जब मैं कॉलेज में प्रथम वर्ष में था तो जया अपनी बारहवीं पास करने वाली थी.

मैं आपको जया के बारे में बता देता हूं.
वो मेरी मौसी की ननद की बेटी है. उसकी फैमिली कल्याण में रहती है.

शुरू से ही हमारी अच्छी दोस्ती थी. मगर बचपन तो बचपन ही होता है और जवानी उससे बिल्कुल उलट.
जैसे जैसे हम बड़े हो रहे थे वैसे वैसे हमारी बातचीत भी थोड़ी कम ही होती जा रही थी.

उसके बाद जया उसके गांव में जाकर पढ़ाई करने लगी थी. लगभग दो साल तक ना मैंने उसे देखा था ना उसने मुझे.

एक बार मेरे घर में एक पूजा होनी थी तो जया भी मेरे घर आई.

जब मैंने इतने दिनों बाद जया को देखा तो मेरी आँखें खुलीं की खुलीं रह गयीं.
लगभग साढ़े पांच फिट हाइट, 34 के बूब्स और गांड भी एकदम गदरायी हुई …
मैं तो देखकर ही पागल हो गया और मन ही मन सोच लिया कि इसकी तो लेकर रहूँगा.

घर में भीड़ होने की वजह से हमारे बीच ज्यादा बातचीत तो नहीं हो पायी. मगर मैंने मौका देखकर उसका मोबाइल नंबर ले लिया.

पूजा खत्म हो गयी. उसको शायद पता नहीं था कि मेरा मकसद क्या है.
वो मेरे से नॉर्मल बात ही कर रही थी.

चूंकि वो केवल पूजा के लिये ही आयी थी इसलिए उसको उसी दिन वापस लौटना था.
मेरी उससे ज्यादा कुछ बात हो नहीं पायी.
फिर वो अपने घर वापस लौट गयी.

जब से उसको देखा था मैं तो उसका दीवाना हो गया था. कहां वो स्कूल की जया और कहां ये उभरती जवानी.
लग रहा था जैसे उसके अंग अंग में कुदरत ने प्रीत का रस भर दिया था.

मैं उसके बदन को अपने बदन के साथ एक करना चाह रहा था. मुझसे रुका नहीं जा रहा था.

एक दिन कॉलेज से आने के बाद मैंने उसको कॉल कर दी फोन पर … फिर हमारी बातें होने लगीं.

एक दो दिन तक मैंने उससे नॉर्मल बातें कीं. कभी बचपन की यादों में निकल जाते थे तो कभी स्कूल की शरारतों के दिनों में।

दो दिन के अंदर ही दोनों जैसे फिर से वही पुराने जया और रोहन बन गये थे.

फिर मुझसे रहा न गया और मैंने उसको अपने प्यार का इज़हार कर दिया.
मुझे यह जानकर बहुत खुशी हुई कि उसने मेरे प्यार को स्वीकार कर लिया और उसने एक बार भी मना नहीं किया.
अब हमारी रोज कॉल पर बाते होने लगी.

बाहरवीं के एग्ज़ाम के बाद जया कल्याण आ गयी थी और यहीं पर बिरला कॉलेज में एडमिशन ले लिया था.
अब तो हम दोनों रोज मिलने लगे थे.

मैं बहाने से उसकी चूचियों को टच कर लेता था. जब भी वो गले मिलती थी मैं उसको कस कर अपने सीने से लगा लेता था.
अब मेरा मन उसकी चूत में लंड देने का बहुत ज्यादा करने लगा था.

फिर धीरे धीरे मैं उसके कपड़ों के ऊपर से ही उसके चूचे भी दबाने लगा. वो भी मेरा साथ देने की कोशिश करती थी लेकिन ज्यादा आगे नहीं बढ़ने देती थी.
मगर उसकी चूचियां दबाते ही मेरा लंड फटने को हो जाता था.

अब मैं चुदाई की आग में जल रहा था. मैं किसी भी तरह जया के साथ सेक्स करना चाहता था.

आखिरकार एक दिन मुझे वो मौका मिल ही गया.
मेरी मौसी की लड़की कोमल हमारे घर से थोड़ी ही दूर रहती थी. हमारा वहां आना जाना लगा रहता था.

उसकी पूरी फैमिली कुछ दिनों के लिए गांव गयी थी और उसके घर की चाबी हमारे पास थी.
मैंने चुपके से चाबी निकाल कर मेरे पास रख ली थी.

दूसरे दिन कॉलेज के बहाने मैं घर से निकल गया. मगर उस दिन मुझे कॉलेज नहीं जाना था.
पहले दिन ही मैंने जया को बोल दिया था कि कल हम थोड़ा टाइम साथ में बिताएंगे.

जया पहले से तैयार थी.
मैं घर से कॉलेज का कहकर निकला और जया को उसके घर से मैंने पिक कर लिया.
फिर मैं कोमल के घर जया को ले गया.

थोड़ा डर तो लग रहा था क्योंकि बात लड़की लाने की थी. पड़ोसियों ने अगर कहीं देख लिया तो हो सकता था कि वे मेरी मौसी की लड़की को बता दें और बात मेरे घर तक पहुंच जाये.

इसलिए मैंने जया का चेहरा ढकवा दिया था.
मैंने भी हेलमेट पहना हुआ था ताकि अगर किसी को लड़की घर में आती दिख भी जाये तो हम दोनों के चेहरे न दिख पायें.

हम दोनों जल्दी से घर के अंदर घुस गये. अंदर जाकर हमने गेट को भीतर से बंद कर लिया.

मुझे तो बहुत जल्दी मची थी जया को नंगी करने की.

हम अंदर रूम में गये और जाते ही मैंने जया को अपनी बांहों में कस लिया. मैं उसके जिस्म को सूंघने लगा. उसकी गर्दन पर किस करने लगा.

वो थोड़ा असहज मसहूस कर रही थी लेकिन फिर उसके हाथ भी मेरी पीठ पर फिरने लगे.

अब हम दोनों ही एक दूसरे को किस कर रहे थे. वो अब मेरा पूरा साथ देने लगी थी.

लगभग 20 मिनट तक तो हम होंठों में होंठों को चिपकाए हुए ही खड़े रहे और चूसते रहे.
फिर मैं जया को गोद में उठाकर बेड पर ले गया.

मैंने उसे बेड पर आराम से लिटा दिया और उसकी तरफ आंख मार दी. वो शर्माने लगी. फिर मैं अपनी टीशर्ट उतारने लगा.

टीशर्ट उतार कर मैंने बगल में रख दी. फिर मैं जया के ऊपर आ चढ़ा. उसको फिर से होंठों पर किस करने लगा.
मगर अबकी बार मैं ज्यादा देर तक होंठों पर नहीं रुका और उसके बदन को जहां तहां से चूमने लगा.

एक हाथ से मैं उसकी चूचियों को भी मसल रहा था.
उसने मुझे रोका और बोली- यार … मेरी ड्रेस खराब हो जायेगी. सिलवटों वाली ड्रेस के साथ घर जाऊंगी तो किसी को शक भी हो सकता है.

मैं बोला- तो फिर ऐसे कैसे चलेगा यार … मैं तो मरा जा रहा हूं तेरे लिए! जल्दी से ऊपर की ड्रेस निकाल ले.
उसने मेरी बात को समझा और वो निकालने के लिए राजी हो गयी.

फिर मैंने उसकी ऊपर वाली ड्रेस की चेन खोल दी और उसको निकलवा दिया.
नीचे से उसने काले रंग की ब्रा पहनी हुई थी.
मैंने पीछे से उसकी ब्रा के हुक भी खोल डाले.

उसकी पीठ नंगी हो गयी.
एकदम से मलाई थी उसकी त्वचा.

उसकी नंगी पीठ को देखकर ही मेरे मुंह में पानी आने लगा.
मैंने अपने गर्म होंठों से उसकी नर्म नर्म त्वचा को पीठ पर से चूम लिया.

मेरे चुम्बन से वो थोड़ी सिकुड़ गयी. फिर मैंने उसको लिटाया और उसकी ब्रा को हटा दिया.
उसकी चूचियां मेरे सामने नंगी थीं.

आह्ह … क्या मस्त सेब थे उसके! एकदम गोरे गोरे चूचे और उन पर मटर के दाने के जैसे भूरे निप्पल!

मैं तो उन पर टूट पड़ा.
मेरा मुंह और जीभ लगने से वो भी उत्तेजित होने लगी.
कुछ ही देर में उसके चूचों के निप्पल एकदम से कड़क हो गये.
मैं समझ गया कि इसको भी गर्मी चढ़ने लगी है.

काफी देर तक मैंने उसकी चूची पी और उनको चूस चूस कर लाल कर दिया.
इस बीच वो सिसकारने लगी थी.

हम दोनों ऊपर से तो पूरे नंगे थे लेकिन नीचे से मैंने पैंट पहनी हुई थी.
जया ने भी जीन्स पहनी थी.
मेरी पैंट में मेरा लंड फटने को हो रहा था.

बूब्स चूसते चूसते मैं अपना एक हाथ नीचे ले जाकर उसकी पैंट के ऊपर से ही उसकी चूत को सहलाने लगा.
अब मैं चूत को छूने के लिए मरा जा रहा था. मैंने उसकी पैंट खोलनी शुरू की तो उसने हाथ पकड़ा लेकिन मैं झटक दिया.
फिर मैंने उसकी पैंट को खोल दिया और उसकी चूत को पैंटी के ऊपर से सहलाने लगा.

उसकी चूत काफी गर्म हो गयी थी और चूत की फांकें मैं अपनी उंगलियों पर महसूस कर सकता था.
जया की चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया था और उसका गीलापन भी मैं अपनी उंगलियों पर महसूस कर सकता था.

मैं बोला- यार पैंट खराब जायेगी तेरी. निकाल ले इसे भी.
उसने अपनी पैंट भी उतार दी. अब वो नीचे से केवल पैंटी में थी.

फिर मैंने उसकी पैंटी भी खींच डाली. मैंने उसको पूरी नंगी कर दिया और वो शर्माने लगी.

मगर मैं देखकर हैरान था कि उसकी चूत के बाल कटे हुए थे.
इसका मतलब साफ था कि जया भी चुदने के इरादे से ही आई होगी. वर्ना उसी दिन बाल काटने की क्या जरूरत थी.

मैंने उसकी चिकनी चूत पर उंगली घुमाई तो उसी आह्ह निकल गयी. कुछ पल मैंने उसकी चूत को उंगली से रगड़ा और फिर उसने खुद ही टांगें हल्की सी फैला दीं.

अब मेरे मुंह में बहुत पानी इकट्ठा हो गया था. मैं उसकी चूत चाटना चाह रहा था.

मैंने अपना मुंह उसकी जांघों के बीच में उसकी चूत पर रख दिया और वो एकदम से सिहर गयी.

उसने मेरे बालों में हाथ डाल लिये और मैंने उसकी चूत चाटनी शुरू कर दी. कुछ देर में वो भी कमर उठा उठाकर मेरा साथ देने लगी.
उसकी चूत से लगातार रस बह रहा था.

फिर मैंने अपने दोनों हाथ उसकी गांड के नीचे डालकर उसकी कमर को उठा लिया और अपनी जीभ से उसकी चूत को चोदने लगा.
चूत में जीभ डालने से जया पागल हुई जा रही थी.

वो अब मेरे बालों को पकड़ कर अपनी चूत चटवा रही थी.

कुछ देर तक चूत चाटने के बाद मैं उसके बदन पर सब जगह किस करने लगा.
मैं उसके होंठों तक पहुंच गया.

मैंने किस करते करते ही अपनी पैंट और अंडरवियर को निकाल कर साइड में डाल दिया.
उसका एक हाथ पकड़ कर मैंने अपने लंड पर रखवा लिया.

पहले तो उसने हाथ हटाया लेकिन फिर मैंने रिक्वेस्ट की.
मेरे कहने के बाद उसने मेरा लंड पकड़ लिया.

फिर मैंने हाथ से उसका हाथ दबाया और लंड को सहलाने का इशारा किया.
वो मेरे लंड को खुद ही अपने हाथ से सहलाने भी लगी.

अब मुझसे और कण्ट्रोल नहीं हो रहा था. मैंने अपनी पॉकेट से कंडोम निकाल कर अपने लंड पर चढ़ा लिया.
मैंने उसके दोनों पैर साइड में करके उसकी चूत को ध्यान से देखा और अपना लंड उसकी चूत पर सेट कर दिया.

अपना लंड उसकी चूत पर लगाकर मैं उसे किस करने लगा.
धीरे धीरे अब मैंने लंड घुसाने की तैयारी शुरू कर दी और हल्के धक्के देने लगा.

उसको दर्द हो रहा था लेकिन मैं किसी तरह खुद को कंट्रोल करता रहा.

धीरे धीरे मैं अब अपना लंड उसकी चूत के अंदर बाहर करने लगा.
उसके चेहरे पर दर्द दिख रहा था लेकिन वो बर्दाश्त कर रही थी.

मैं उसको किस करने लगा और अब चुदाई का मजा आने लगा.

धीरे धीरे करके मैंने अपना पूरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया और धीरे धीरे आगे पीछे करने लगा.
अब उसकी चूत में लंड पूरा जा चुका था. मैं उसको आहिस्ता से चोदने लगा.

थोड़ी देर में उसकी चूत का दर्द जब कम हुआ तो वो भी थोड़ी कामुकता दिखाने लगी और अपनी चूत को मेरे लंड की ओर हल्के धक्के से धकेलने लगी.
मैं समझ गया कि उसको अब चुदने का मजा आ रहा है.

चूत चुदाई करते हुए जब 5-7 मिनट बीत गये तो तब तक हम दोनों एक दूसरे के जिस्मों में खो चुके थे.
उसकी चूत बार बार मेरे लंड को चोद रही थी और इधर से मेरे लंड के धक्के उसकी चूत में लग रहे थे.

अब दोनों को चुदाई का पूरा आनंद मिल रहा था.

उसने मुझे कसकर बांहों में भर लिया और फिर उसकी पकड़ ढीली होती चली गयी.
उसकी चूत का रस निकल गया था शायद.
उसके चेहरे पर एक संतुष्टि सी झलकने लगी थी.

उसका पानी तो निकल गया था. मगर मेरा अभी होना बाकी था. मैं उसको चोदता रहा और वो दर्द को सहती रही. मैंने उसकी जमकर चुदाई की.

फिर मेरा माल उसकी चूत में कंडोम में निकल गया.
मैं कुछ देर उसेक ऊपर लेटा रहा और फिर मैंने अपना लंड बाहर निकाल लिया.

मेरा माल कॉन्डम में इक्ट्ठा हो गया था और जया उसको ध्यान से देख रही थी.

मैंने कॉन्डम उतारा और साइड में फेंक दिया. फिर हम कुछ देर एक दूसरे के साथ नंगे ही चिपके रहे.

मैं उसको किस करता रहा और उसके बूब्स दबाता रहा.
वो भी मुझे चूमती रही और मेरे बदन को सहलाती रही.

उस दिन मैंने फिर तीन बार उसकी चुदाई की. अगले सात दिन तक मौसी की बेटी के मकान की चाबी मेरे पास ही थी.

रोज मैं कॉलेज के बहाने से निकल जाता और जया को लेकर वहां पहुंच जाता. सात दिन तक मैंने उसको लगातार चोदा. अब वो खुद ही चुदने के लिए कह देती थी.

उसके बाद मौसी की लड़की कोमल लौट आई और फिर चुदाई का मौका मिलना कम हो गया.
मगर फिर भी हम किसी न किसी तरह से चुदाई की जगह और समय निकाल ही लेते थे.

तो दोस्तो, ये थी मेरी गर्लफ्रेंड की चुदाई की कहानी.
आपको मेरी यह कहानी कैसी लगी मुझे इसके बारे में जरूर बताना.
आप नीचे दी गयी ईमेल पर अपने मैसेज भेजें या फिर कमेंट्स में अपनी बात लिखें.

Posted in Teenage Girl

Tags - antarvasnasexcollege girldesi ladkihindi mom sex storyhot girlnew hindi sexy storiesoral sexsex with girlfriendsexy xxx storytrisha kar madhu chudai