चुदाई की लत ने रंडी बना दिया Part 1 – Trisakar Madhu Sex

हॉट सिस्टर फक स्टोरी में पढ़ें कि मेरी आपा को मुझसे और मेरे दोस्त से चुदने के बाद चुदाई का शौक पड़ गया था. तो मैंने उसे चुदाई के पैसे वसूलने की राय दी.

दोस्तो, मेरा नाम फेहमिना इकबाल है, आप सभी मेरे बारे में भली भांति जानते ही हैं.
लेकिन जो लोग मुझे नहीं जानते, उन्हें मैं अपने बारे में थोड़ा सा बता देती हूँ.

मेरी उम्र 28 साल है और मैं 5.8 इंच लम्बी हूँ काले बाल और नशीली आँखें और 34 28 34 का फिगर किसी का लंड भी खड़ा करने के लिए काफी है।
आप लोगों ने मेरी सभी कहानियों को बहुत प्यार दिया हैं उसके लिए आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद।
आपका प्यार ही मुझे नई कहानी लिखने के लिए प्रेरित करता हैं कृपया अपना प्यार ऐसे ही बनाये रखे।

मेरी पिछली कहानी
मेरी बहन को मुझसे चुदकर चुदाई की लत लग गयी
सलीम नाम के मेरे एक प्रशंसक ने मुझे भेजी थी ये हॉट सिस्टर फक स्टोरी उससे आगे की हैं तो बस अब आप सब लोग मज़ा लीजिये।

आप लोगों ने पिछली कहानी में पढ़ा था कि कैसे मेरी एक गलती की वजह से मेरी नसरीन आपा को अवधेश और उसके भाई और मेरे दोस्त पंकज से चूत चुदाई करवानी पड़ी थी.
तो चलिए आज मैं आपको उससे आगे की कहानी बताता हूँ।

उसके बाद नसरीन आपा ने मुझसे और अपने बॉयफ्रेंड विशाल से ही चूत चुदवानी जारी रखी.

ये सब लगभग 5 महीने तक चला.
अब तक आपा पूरी चुदैल बन चुकी थी अब वो बिना लंड के एक दिन भी नहीं रह सकती थी।

हालात ये हो गये थे कि कभी कभी तो आपा अम्मी के सामने ही मेरा लंड पैन्ट के ऊपर से सहला देती थी.

मैंने आपा को कई बार कहा- यार आपा बहनचोद, तुम किसी दिन दोनों की गांड तुड़वाओगी.
तो आपा बस हंस कर रह जाती।

फिर 1 दिन अचानक शाम को आपा कॉलेज से घर आई और आते ही अपने कमरे में चली गयी.

मैंने महसूस किया कि आज आपा का मूड ख़राब है तो मैं उनसे मिलने उनके कमरे में चला गया.

तो मैंने देखा कि आपा ने अपने कपड़े नहीं बदले हैं और वो ऐसे ही बिस्तर पर अपने चूतड़ ऊपर उठाये लेटी हुई थी और रो रही थी.

मैंने आपा को पूछा- मेरी जान आपा, क्या हुआ है? आप रो क्यूँ रही हो?
तो आपा ने मुझे डांटकर वहां से जाने को कहा.

मुझे थोड़ा बुरा लगा तो मैं वहां से चला गया.
शाम को सबने साथ खाना खाया तो मैंने आपा की तरफ देखा भी नहीं!

आपा बार बार मुझे अपनी तरफ देखने का इशारा कर रही थी मगर मैं उनकी तरफ नहीं देख रहा था.

खाना खाकर मैं अपने कमरे में चला गया और सो गया.

रात को आपा मेरे कमरे में आई, मुझे उठाने लगी.

तो मैंने आपा को कहा- मुझे आपसे कोई बात नहीं करनी है. आप आपने कमरे में चली जाओ.
आपा ने मुझे उठाना बंद कर दिया और रोने लगी.

मैंने देखा कि आपा बहुत जोर जोर से सुबक सुबक कर रो रही थी.
तो मैंने एकदम से आपा को अपने गले लगा लिया और बोला- यार आपा, आप मेरे सामने ऐसे ना रोया करो.

मगर आपा का रोना जारी रहा.
वो अब जोर जोर से रो रही थी.

तो मैंने आपा को गले से लगाये लगाये उनसे पूछा- यार आपा, बताओ न हुआ क्या है?
उन्होंने थोड़ी देर बाद कहा- आज मैंने विशाल को किसी और लड़की को किस करते हुए देखा.

मैं समझ गया कि आपा का दिल टूट गया है.

फिर वो विशाल को माँ बहन की गालियाँ देने लगी.
तो मैंने उन्हें चुप कराया.

उन्होंने कहा- विशाल मेरे साथ ऐसा कैसे कर सकता है?

जब आपा चुप हो गयी तो मैंने उनसे कहा- आपा देखो, आप भी तो उससे सच्चा प्यार करने के बावजूद मेरे साथ भी सेक्स करती थी ना … क्यूँकि आपको अच्छा लगता है. तो अगर विशाल ने किसी और लड़की को किस कर लिया तो कौन सा बड़ी बात है?

यह सुनकर आपा सोच में पड़ गयी.
फिर उन्होंने मुझसे कहा- वो कुछ भी हो … मगर अब मैं विशाल की शक्ल भी देखना नहीं चाहती!

मैंने उन्हें किस करते हुए कहा- आपा देखो, आपकी अपनी लाइफ है. आपको जिससे रिश्ता रखना है रखो, जिससे नहीं रखना उसे बाहर निकाल कर फैंक दो.

तो आपा ने मुझे किस करना शुरू कर दिया और मेरे कपड़े उतारने शुरू कर दिए.

फिर वो मुझे गाली देते हुए बोली- बहनचोद, अगर आज के बाद मुझसे ऐसे बात करनी बंद की ना तो तेरी माँ चोद दूंगी!
मैंने आपा की इस बात पर कहा- साली रंडी, खुद तो नखरे दिखा रही थी. सुबह मुझे इतनी जोर से डांटकर भगा दिया. आज देख कैसे तेरी गांड की माँ चोदता हूँ!

फिर हम दोनों एकदम जंगली वाले रूप में आ गए.

उस टाइम मेरी रंडी मतलब मेरी आपा ने झीनी सी नाईटी पहनी हुई थी.
मैंने उसकी नाईटी फाड़ दी.

तो आपा ने मुझे कहा- कुत्ते बहनचोद, तूने मेरी नाईटी क्यों फाड़ी? मैं खुद उतार तो रही थी ना?

मैंने आपा के बाल पकड़कर किस करते हुए कहा- आज तुझे मेरी रांड बनाकर चोदूँगा साली. आज तो तेरे जिस्म का हर कोना फाड़ दूंगा.

यह कहकर मैंने आपा की ब्रा पैन्टी भी फाड़ दी.
अब मेरी आपा पूरी तरह से नंगी थी.

फिर आपा ने मेरी टीशर्ट भी फाड़ दी.

मैंने कहा- बहन की लोड़ी … इस टीशर्ट के पैसे तुझे रांड बनाकर वसूल करूँगा.
तो आपा ने कहा- हां बना दे मुझे रांड! मुझे भी घोड़े के जैसे मोटे लंड से चूत चुदाई करवानी है.

हम दोनों नंगे हो गए और मैंने आपा के जिस्म को चाटना और काटना शुरू कर दिया.

फिर मैंने आपा को घोड़ी बनाकर चोदना शुरू कर दिया.
मैं उनके बाल खींचकर आपा को चोद रहा था.
आपा भी अब आह्ह उफ की आवाज निकाल निकाल कर चुदाई में मेरा पूरा साथ दे रही थी.

मैंने थोड़ी देर बाद अपना सारा पानी आपा के मुंह में डाल दिया जिसे आपा ने ख़ुशी ख़ुशी पी लिया और मेरा लंड चाटकर साफ़ कर दिया.

तब हम दोनों भाई बहन नंगे एक दूसरे की बाँहों में बाहें डाल कर लेट गए और बात करने लगे.

मैंने आपा को कहा- आपा, अब तो आपको बस मेरा लंड ही नसीब हुआ करेगा!
तो वो निराश होती हुई बोली- हाँ यार … लेकिन मुझे अब किसी मोटे लंड से चूत चुदवानी है!

मैंने मजाक में कहा- अवधेश का लंड चूत में लेने का मन है क्या?
तो वो बोली- हाँ यार … उस जैसा कोई लड़का मिल जाये तो चूत को शांति मिल जाये!

मैंने कहा- आपा फ्री में किसी से चूत क्यों चुदवानी है. अगर चूत में लंड लेना का मन है तो पैसे लेकर लंड लो न! उससे आपको मज़ा भी आयेगा और पैसे भी मिलेंगे!

यह सुनकर आपा ने मेरी तरफ देखा और कहा- मतलब तुम मुझे रंडी बनाना चाहते हो? जो पैसे लेकर चूत चुदाई करवाती हैं?
मैंने कहा- हाँ … मगर आप हाई प्रोफाइल रंडी बनना! आप इतनी खूबसूरत हो आपके तो रूपए भी अच्छे खासे मिल जायेंगे.

आपा बोली- बात तो तुम सही कह रहे हो. मगर अम्मी को इस बारे में पता चल गया तो वो मुझे जान से मार देंगी?
तो मैंने कहा- हम ये काम किसी और शहर में जाकर करेंगे जिससे अम्मी को पता नहीं चलेगा.

फिर आपा ने कहा- मगर हम किसी और शहर में जायेंगे कैसे?
तो मैंने कहा- देखो, कुछ दिनों में आपका कॉलेज भी ख़त्म हो जायेगा. तो आप अम्मी को बोलो कि आपको जॉब करनी है. अगर अम्मी मान गयी तो वैसे भी मेरठ में तो ऐसी कोई जॉब अच्छी मिलेगी नहीं. तो तुम कह देना की मुझे दिल्ली में जॉब मिल रही हैं, मैं दिल्ली में जॉब करना चाहती हूँ. फिर बस हमें अम्मी को मनाना पड़ेगा. अगर हम उसमें कामयाब हो गए तो बस फिर तो मज़ा ही मज़ा है.

इस पर आपा ने मुस्कुराकर मुझे किस करते हुए कहा- आईडिया तो बहुत अच्छा है. मैं कुछ दिन बाद कोशिश करती हूँ।

कुछ दिन तक ऐसे ही हम भाई बहन की चूत चुदाई चलती रही.

लगभग 2 महीने बाद आपा का कॉलेज ख़त्म हो गया तो उन्होंने एक दिन अम्मी से जॉब की बात की.
अम्मी जॉब के लिए तो मान गयी क्यूँकि पैसों की जरूरत तो उन्हें भी थी.

मगर अम्मी शहर से बाहर जाकर जॉब करने के पक्ष में नहीं थी इसलिए वो आपा को दिल्ली नहीं भेजना चाहती थी.

मैंने और आपा ने बहुत दिन तक अम्मी को समझाया तब कहीं जाकर अम्मी आपा को भेजने के लिए तैयार हुई.
अब बारी थी जॉब ढूंढने की!

चूँकि मेरी आपा पढ़ाई में बहुत होशियार थी तो उन्हें जॉब ढूंढने में ज्यादा दिक्कत नहीं हुई.

एक दिन आपा ने अम्मी को कहा- दिल्ली में एक इंटरव्यू है. मुझे उसके लिए दिल्ली जाना होगा.
तो अम्मी ने कहा- सलीम को भी साथ ले जाओ.

और हम दोनों साथ में दिल्ली चले गये.

हम दोनों पहली बार दिल्ली आये थे तो वहां की चमक दमक देखकर हमारे मन में लड्डू फूटने लगे.
मैंने आपा को कहा- आपा, यहाँ आपको अच्छे मालदार ग्राहक मिल जायेंगे जो आपके इस खूबसूरत जिस्म पर मर मिटेंगे.

यह सुनकर आपा ने कहा- हाँ यार, यहाँ अच्छा पैसा कमाया जा सकता है.

मगर फिर वो बोली- यार, मैं पहली बार ऐसे अनजान शहर में आई हूँ, यहाँ अकेले रहने में मुझे डर लगेगा.
मैंने कहा- आप अम्मी से बात कर लो. मैं भी यही किसी कॉलेज में दाखिला ले लूँगा. फिर हम दोनों साथ में रहेंगे और खूब चुदाई किया करेंगे।
आपा ने कहा- बात तो तुम सही कह रहे हो!

उस दिन आपा ने इंटरव्यू के बाद हम दिल्ली घूमते रहे.
हम दोनों एक दूसरे के हाथ में हाथ डालकर टहल रहे थे तो देखने वालों को यही लग रहा था जैसे हम दोनों कपल हों.

आपा के इंटरव्यू का रिजल्ट बाद में पता चलने वाला था तो हम दोनों शाम को घर वापस आ गए.

2 दिन बाद आपा के पास फ़ोन आया कि उनका सिलेक्शन हो गया है.
मतलब आपा को जॉब मिल गयी थी.

इस बात पर हम सब बहुत खुश थे.

अम्मी ने आपा को बोला- नसरीन बेटा, तुम वहां अकेली कैसे रहोगी? वहां तुम्हारा ध्यान कौन रखेगा?
फिर अम्मी ने कहा- सलीम, तुम भी अपना दाखिला दिल्ली के किसी कॉलेज में ले लो. तुम अपनी आपा के साथ दिल्ली में रहोगे.

यह सुनकर तो मैं और आपा ख़ुशी से फूले नहीं समा रहे थे.

मगर अम्मी को कोई शक न हो इसलिए आपा ने कहा- मगर अम्मी, फिर आप यहाँ अकेली रह जाओगी. फिर आपका ध्यान कौन रखेगा?
अम्मी ने कहा- मेरी चिंता मत करो. तुम दोनों वहां एक दूसरे का ध्यान रखना बस!
यह कहकर अम्मी वहां से चली गयी.

आपा ने मुझे वहीं किस किया और फिर वो भी अपने कमरे में चली गयी.
मैं भी अपने कमरे में आ गया.

रात को आपा मेरे कमरे में आ गयी और हमारे बीच फिर से धुआंधार सेक्स हुआ.

भाई बहन सेक्स के बाद मैं और आपा बैठकर बातें कर रहे थे.

फिर मैंने आपा को बोला- यार आपा, अब हम दोनों वहां जाकर रहेंगे तो वहां तो हमें कोई रोकने वाला नहीं होगा. जब मर्ज़ी चाहे तब सेक्स कर लिया करेंगे.
आपा ने कहा- हाँ कमीने, तुम तो बस जब देखो मेरी चूत में लंड डालना चाहते हो. तुम्हारा बस चले तो मुझे सबके सामने नंगी करके वहीं चोदना शुरू कर दो।

यह सुनकर मैंने आपा को किस किया और कहा- यार मेरी जान, तू है ही इतनी हॉट रंडी … जिसे जब मन चाहे, तब चोद लो.
आपा ने कहा- हाँ कमीने, रंडी के साथ मैं तेरी बहन भी हूँ बहनचोद भाई!

फिर वो बोली- वहां जाकर तुम मुझे सच में रंडी बना दोगे?
तो मैंने कहा- अगर आप ये काम करना चाहोगी, तभी करेंगे. वरना नहीं करेंगे.

आपा ने कहा- यार, मुझे भी नए नए लंड से चुदने का मन करता है. और अगर इस चीज़ के पैसे मिल रहे हैं तो मैंने अपनी जवानी किसी को फ्री में क्यों दूँ? मैं तो उसके पैसे लूंगी.
मैंने कहा- ये हुई न रंडियों वाली बात!

फिर मैंने कहा- यार आपा, मुझे भी नई नई चूत चोदनी हैं. तो आप वहां जाकर कोई जुगाड़ कर देना मेरा भी!
आपा ने कहा- क्यों, मेरी चूत से मन नहीं भरता क्या तेरा?
मैंने कहा- यार आपा, आपकी चूत का तो कुछ दिनों बाद भोसड़ा बन जायेगा. तो उसमें लंड डालने में मज़ा नहीं आयेगा. इसलिए अब मुझे भी नई नई चूत चाहिये.
तो आपा ने कहा- ठीक है, वहां जाकर देखेंगे क्या सीन बनता है.

फिर हम दोनों सो गए.

आपको मेरी हॉट सिस्टर फक स्टोरी कैसी लग रही है?
आप सभी अपने विचार पर मेल में भेज सकते हैं।
सभी मुझसे फेसबुक पर ..143 के जरिये जुड़ सकते हैं।

हॉट सिस्टर फक स्टोरी का अगला भाग: चुदाई की लत ने रंडी बना दिया- 2

Posted in अन्तर्वासना

Tags - bhai behan ki chudaidesi ladkidevar bhabhi sex videosfamily hindi sex storyhot girlkamvasnamadhu ke sex videoporn story in hindisex story hindi audiosexcy story hindi