दोस्त की मम्मी ने चूत चुदाई करनी सिखाई Part 2 – Trisha Madhu X Video

इंडियन आंटी सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मेरे दोस्त की मम्मी ने मेरा लंड चूस कर अपनी चूत चटवाई. तब से मैं आँटी की चुदाई करना चाहता था.

कहानी के पहले भाग
दोस्त की मम्मी ने मुझे मुठ मारते पकड़ लिया
में अब तक आपने पढ़ा कि

आंटी ने मेरे लंड को सहलाना शुरू किया. तभी उन्होंने मेरा लंड अपने मुंह में लिया और जोर जोर से चूसने लगी.
थोड़ी ही देर में उन्होंने मेरा लंड चूस कर खड़ा कर दिया. आंटी ने कहा कि मैं तुम्हारे लंड से चुदाना चाहती हूं।

तो मैंने आंटी को कहा- आंटी, मैंने अभी तक किसी की चुदाई नहीं की है।
आंटी ने कहा- मैं तुम्हें सेक्स करना सिखाऊंगी. चलो हम मेरे कमरे में चलते हैं।

फिर मैं और आंटी हम दोनों उनके बेडरूम में चले गए और दरवाजा अंदर से बंद कर लिया।

मेरा दोस्त राहुल अभी भी अपने कमरे में सो रहा था।

अब आगे इंडियन आंटी सेक्स स्टोरी:

मैंने फिर से अपनी पैन्ट और चड्डी उतार दी.
इस बार मैंने अपनी पैंट को उतारकर अलग कर दिया और अपना खड़ा लंड आंटी के सामने कर दिया.

आंटी ने मुझे बेड पर बिठाया और खुद जमीन पर घुटने पर बैठ गई.
वे मेरे लंड को अपने एक हाथ से पकड़ कर सहलाने लगी और मेरे टोपे को मुंह में लेकर जीभ से चाटने लगी.

मुझे बहुत मजा आ रहा था.

वे कभी मेरे पूरे लंड को गले तक अपने मुंह में भर लेती, कभी पूरा लंड बाहर निकालकर से मेरे लंड के टोपे को चाटने लगती.
कभी जीभ से मेरी गोटों को चाटती और कभी चूसती थी.
मुझे बहुत मजा आ रहा था.

थोड़ी देर बाद आंटी उठी और मुझे एक किस किया.

मैंने आंटी का चेहरा पकड़ा और उन्हें जोर से किस करने लगा.
मैं उस वक्त बहुत जोश में था, मुझे उनके मुलायम होंटों को चूमना अच्छा लग रहा था.

मैंने अपनी जीभ आंटी के मुंह में डाल दी और घुमाने लगा.
आंटी भी मेरा पूरा साथ दे रहीं थी।

वे जोर- जोर से मेरे होंठों को चूस रही थी, कभी काट रही थी और एक हाथ से मेरे लंड को हिला रही थी.

आंटी ने नीचे बैठकर दोबारा मेरे लंड को चूसना शुरू किया.
थोड़ी देर बाद मुझे लगा कि मेरा पानी निकलने वाला है तो मैंने आंटी को बोला- मैं छुटने वाला हूं.
तो आंटी ने कहा कि मेरे मुंह में ही निकाल दो.

मैंने अपना सारा पानी आंटी के मुंह में ही निकाल दिया.
वे मेरा सारा पानी पी गई. उन्हें मेरे पानी का स्वाद भी अच्छा लगा।

आंटी ने मुझे अपने सारे कपड़े उतारने को कहा.
मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिए.

आंटी ने भी अपने सारे कपड़े उतार दिए. आंटी मेरे सामने बिल्कुल नंगी खड़ी थी.

उनका नंगा शरीर बहुत सुंदर लग रहा था।
आंटी बहुत गोरी थी, आंटी के बूब्स बहुत बड़े-बड़े थे और गांड उभरी हुई थी और कमर पतली थी.
मेरे दोस्त की मम्मी बहुत सेक्सी लग रही थी.

मैंने पहले कभी आंटी पर ध्यान नहीं दिया था.
मगर आज आंटी को देखने के बाद चोदने का मन हो रहा था।

मैंने आंटी से कहा- आप बहुत सेक्सी हो।
तो आंटी शर्मा के मेरे पास आकर बोली- क्या तुम और भी कुछ सीखना चाहते हो?
मैंने हाँ में अपना सिर हिला दिया.

उन्होंने मुझसे कहा- मैं बिस्तर पर लेट जाती हूं. तुम मेरी चूत चाटना.
मैंने हां में सर हिला दिया.

आंटी बिस्तर पर लेट गई और अपनी दोनों टांगें खोल दी.

अपने दोस्त की मम्मी की चूत मुझे साफ़ दिखाई दे रही थी।
आंटी की चूत एकदम गोरी थी; उनकी चूत पर एक भी बाल नहीं था. शायद उन्होंने एक आध दिन पहले ही शेविंग की होगी.
उनकी चूत अंदर से लाल रंग की दिखाई दे रही थी. आंटी की चूत बहुत साफ थी.

आंटी की गांड का छेद भी देख पा रहा था. उनकी गांड का छेद बहुत छोटा था पर बहुत सेक्सी लग रहा था.

मैंने अपना मुंह आंटी की चूत में रखा और जोर-जोर से आंटी की चूत चाटने लगा.

मैं अपनी जीभ को आंटी की चूत के चारों तरफ घुमा रहा था और पूरी चूत चाट रहा था.
मैंने आंटी के दाने को दांत से दबाया और फिर चूसने लगा.

आंटी के मुंह से तेज से आह ऊह आआ अह जैसी आवाजें निकली।

उन्होंने मुझसे पूछा- तुम इतने अच्छे से चूत कैसे चाट लेते हो?
तो मैंने कहा- मैंने यह सब वीडियो में देखा था।

तो आंटी ने मुझसे कहा- अपनी एक उंगली मेरी चूत में डालो और आगे पीछे करो. उंगली से मेरी चूत को चोदो और चाटो.

मैंने एक उंगली दोस्त की मम्मी की चूत में डाल दी और आगे पीछे करने लगा और उनकी चूत चाटने लगा.

आंटी मस्त होने लगी थी.
मैं बहुत तेजी से अपनी उंगली डाल रहा था, बाहर निकाल रहा था.
आंटी को बहुत मजा आ रहा था.

मैं अपनी जीभ से चाट रहा था और अपनी जीभ भी चूत में डाल देता था.
आंटी थोड़ी देर में तड़पने लगी।

जल्दी ही आंटी ने सारा पानी मेरे मुंह में ही निकाल दिया.
आंटी का पानी मुझे अच्छा नहीं लगा तो मैंने थूक दिया.

आंटी ने मुझसे पूछा- क्या हुआ बेटा?
तो मैंने कहा- आंटी, मुझे आपकी चूत चाटना तो अच्छा लगता रहा है लेकिन चूत का पानी पीना अच्छा नहीं लगा.
आंटी ने कहा- कोई बात नहीं!

मैं बाथरूम में गया और अपना मुंह धोकर वापस आ गया।

आंटी अभी भी बिस्तर में नंगी ही लेटी थी.

मैं आंटी के पास गया और उन्हें चूमने लगा. मैं उनके पूरे चेहरे को चूम रहा था.

आंटी ने मुझे पकड़ कर गले लगा लिया, बोली- तन्मय, आज मुझे तुम्हारे साथ बहुत मजा आया. अब मैं तुम्हें चोदना सिखाऊंगी.
मैंने आंटी से कहा- आंटी, मुझे भी आपके साथ बहुत मजा आया. क्या मैं जब चाहूं आपको चोद सकता हूं?

तो आंटी ने कहा- तन्मय तुम जब चाहो मुझे चोद सकते हो. पर किसी को इस बारे में बताना मत!
मैंने आंटी से कहा- आंटी, ठीक है।

तब तक मेरा लंड मुरझा चुका था।
आंटी ने मेरा लंड अपने मुंह में लिया और चूसना शुरू कर दिया.

10 मिनट बाद आंटी ने मेरा लंड चूस कर खड़ा कर दिया.
हम अब चुदाई के लिए तैयार थे।

तभी मेरे दोस्त राहुल ने दरवाजा खटखटाया और बोला- मम्मी, दरवाजा खोलो. मुझे आपसे कुछ पूछना है?

डर के मारे मेरी हालत खराब हो गई थी.

मैं जल्दी से भागकर आंटी के बाथरूम में घुस गया और वहीं छुप गया.
आंटी ने भी जल्दी से कपड़े पहने और दरवाजा खोल दिया.

राहुल अंदर आया और उसने पूछा- मम्मी, मेरा कंप्यूटर किसने चलाया था? मेरा कंप्यूटर खुला रखा था.
आंटी ने कहा- तन्मय आया था, कह रहा था कि उसे कंप्यूटर में कुछ काम है.

राहुल ने ओके कहा और बोला- मैं नहाने जा रहा हूं. उसके बाद मैं तन्मय के घर जाऊंगा. मैंने उससे बोला था कि मैं उसके घर आऊंगा।

तो आंटी ने कहा- ठीक है, चले जाना.
और राहुल अपने कमरे में चला गया।

आंटी मेरे पास बाथरूम में आयी और मुझसे बोली- बेटा, अब तुम्हें अपने घर जाना चाहिए. हम बाद में चुदाई करेंगे।
मैंने आंटी से कहा- आंटी, मेरा लंड तो खड़ा है. इसका क्या करूं?

आंटी ने मेरे लंड को चूस कर पानी निकाल दिया और मैं अपने घर चला गया।

उसके बाद रात को मैंने चाचा, चाची और उनकी बेटी ने खाना खाया.
फिर हम सोने चले गए.

मैं और चाचा की बेटी, जिसका नाम नीतू है, हम दोनों एक ही कमरे में सोते हैं।

जब हम सोने लगे तो दीदी मेरे पास आयी और मुझे चूमने लगी.
मैं भी उसे चूम रहा था और उसके बूब्स को दबा रहा था.

थोड़ी देर बाद उसने मुझे बेड पर लिटा दिया और अपने सारे कपड़े उतार दिए.
मैंने भी अपनी पैंट और चड्डी को उतार कर अलग कर दिया.

अब दीदी ने मेरा लंड पकड़ कर मुंह में ले लिया और चूसने लगी.

लगभग 15 मिनट बाद दीदी ने मेरा लंड चूस कर खड़ा कर दिया. हम 69 की पोजीशन में आ गए थे.
मैं दीदी की चूत को चाट रहा था और दीदी मेरा लंड चूस रही थी.

आज मैंने आंटी की चूत को जिस तरह चाटा था, मैंने दीदी की चूत को भी उसी तरह चाटना शुरू कर दिया.

दोस्तो, मैं आपको बताना चाहता हूं कि मुझे चूत चाटना दीदी ने सिखाया है.
कहानी के शुरू में मैंने यह आपको नहीं बताया कि दीदी और मैं हर रोज ओरल सेक्स करते थे.

दीदी का चुदाई करवाने का बहुत मन होता था मगर वह किसी एक्सपीरियंस वाले लड़के से चुदवाना चाहती थी.
उसे पहली चुदाई के दर्द की वजह से डर लगता है इसलिए वह मुझसे सिर्फ अपनी चूत चटवाती थी और मेरा लंड चूस कर मुझे शांत कर देती थी।

तभी दीदी ने मुझसे बोला- आज तुम मेरी चूत को बहुत अच्छे से चूस रहे हो. तुमने ये तरीका कहां से सीखा? मुझे बहुत मजा आ रहा है।
मैं दीदी से बोला- आप मुझसे सवाल मत पूछो, बस आप अपनी चूत को चुसवाने का मजा लो।

दीदी फिर से मेरा लंड चूसने लगी।

अब हम दोनों बहुत गर्म हो गए थे।
20 मिनट तक ओरल सेक्स के बाद हम दोनों भाई बहन एक साथ झड़ गए।

दीदी ने मुझे एक लंबा किस किया और बोली- आज मुझे बहुत मजा आया. अब तुम रोज ऐसे ही मेरी चूत चाटना!
मैं बोला- ठीक है दीदी! लेकिन क्या मैं आप से एक बात पूछ सकता हूं?
तो दीदी ने कहा- तुम्हें जो भी पूछना हो, तुम पूछ सकते हो।

मैं बोला- दीदी, मैं चुदाई करना चाहता हूं। अगर मैं किसी एक्सपीरियंस वाले की मदद से आपकी चुदाई करूं तो क्या आप मुझे चोदने दोगी?
तो दीदी ने कहा- मैं अपनी पहली चुदाई को यादगार बनाना चाहती हूं. अगर तुम मुझे उसी तरह चोदो जैसे तुमने मेरी चूत चाटी है तो मैं तुम्हें चोदने दूंगी।

फिर हम दोनों एक दूसरे से नंगे ही लिपट कर सो गए।

जब मैं अगली सुबह उठा तो मैंने देखा कि दीदी बिस्तर पर नहीं है, वह जा चुकी है और मैं नंगा ही लेटा हूं.
मैं जल्दी से उठा और नहा कर बाहर आ गया.

चाची ने खाना बना कर रखा था.
दीदी ने मुझसे कहा- आओ भाई, खाना खा लो.

मैंने खाना खाया और राहुल के घर चला गया।

जब मैंने राहुल के घर की घंटी बजाई तो आंटी ने दरवाजा खोला.
आंटी उस समय बहुत सुंदर लग रही थी.
अब मैं आंटी को सेक्सी नजरों से देखने लगा था.

मैंने आंटी से बोला- आंटी राहुल कहां है?
तो आंटी ने बताया कि राहुल अभी सो रहा है. जाओ जाकर उसे जगा लो.

मैंने आंटी को बोला- आंटी, कल मुझे बहुत मजा आया था. मुझे आपकी चुदाई करनी है. हम दोनों चुदाई कैसे करेंगे?
तो आंटी ने कहा- राहुल घर पर ही रहता है. उसके सामने हम चुदाई नहीं कर सकते. हमें कोई रास्ता निकालना पड़ेगा.

मैंने आंटी से कहा- आंटी, जब राहुल सो जाएगा तो हम चुदाई करेंगे.
आंटी ने कहा- राहुल हमेशा नहीं सोता रहता है.
तो मैंने आंटी से कहा- आंटी, जब मैं राहुल को अपने घर भेज दूंगा तो हम चुदाई कर लेंगे.

आंटी ने कहा- राहुल तुम्हारे बिना तुम्हारे घर पर क्यों रहेगा? वह तो तुम्हारे साथ ही रहता है. और फिर हम चुदाई नहीं कर पाएंगे।
तो मैंने आंटी से कहा- आंटी प्लीज कुछ करो. अब मुझसे और नहीं रुका जा रहा!
आंटी ने कहा- ठीक है, मैं तुम्हें शाम तक बताती हूं।

मैंने आंटी की गांड को दबाया और फिर राहुल के कमरे में उसे जगाने चला गया।

मैं बेसब्री से शाम होने का इंतजार करने लगा।

शाम को मैं आंटी के पास गया और उनसे पूछा- आंटी, आपने कुछ सोचा?
तो आंटी ने बोला- रात को जब सब सो जाएंगे, राहुल और मानसी दोनों सो जाएंगे तो तुम छत से मेरे कमरे में आ जाना. मैं छत का दरवाजा खुला रखूंगी.

दोस्तो, मैं आपको बता दूँ कि हम पड़ोसी हैं इसलिए हमारे छत भी आपस में जुड़ी हुई हैं. हम लोग छत से भी एक दूसरे के यहां आते जाते हैं।
मैंने आंटी को कहा- ठीक है, मैं रात को आ जाऊंगा.
बोल कर अपने घर वापस चल आया।

घर जाकर मैंने दीदी को बोला- दीदी, आपको मेरी एक मदद करनी होगी. उसके बदले मैंने जैसे कहा था, वैसे ही आप की चुदाई करूंगा।

दीदी ने हां बोल दिया तो मैंने दीदी को सारी बात बताई और बोला- मैं सबके सोने के बाद आंटी के घर जाऊंगा. आप किसी को मत बताना. मैं आंटी को चोदने के बाद हमारी चुदाई की बात भी कर लूंगा और फिर हम दोनों मिलकर आंटी के सामने सेक्स करेंगे।

रात में सबके सो जाने के बाद मैंने दीदी को जगाया और बोला- दीदी, मैं आंटी के घर जा रहा हूं. आपको मैं सुबह फोन करूंगा तो आप छत का दरवाजा खोल देना. अभी आप छत का दरवाजा बंद कर लो।

फिर मैं आंटी के घर चला गया.
आंटी ने अपने छत का दरवाजा खुला ही रखा था.

मैं जल्दी से आंटी के कमरे के पास गया और दरवाजा खटखटाया.
आंटी ने दरवाजा खोला तो मैं उन्हें देखता ही रह गया.
वे बहुत ही सेक्सी लाल रंग की नाइटी में थी और बहुत सुंदर लग रही थी.

मैं जल्दी से अंदर गया और दरवाजा बंद कर लिया.

आंटी ने मुझे गले से लगा लिया और मेरा लंड को पैंट के ऊपर सही पकड़ कर सहलाने लगी.

मैंने आंटी को अलग किया और अपने सारे कपड़े उतारकर आंटी से चिपक गया.

आंटी ने मुझे बेड पर लेटने को कहा.
मैं जल्दी से बेड पर लेट गया और आंटी को देखने लगा.

आंटी सेक्सी चाल में मेरे पास आ रही थी
वे धीरे-धीरे नाइटी उतारने लगी।

आंटी ने नाइटी के अंदर ब्रा और पैंटी नहीं पहनी थी.

मैं बोला- आंटी, आज आप बहुत सेक्सी लग रहे हो!
आंटी मेरा लंड पकड़ कर चूसने लगी.

मेरा लंड तो आंटी को देखकर पहले ही खड़ा हो गया था.
मैंने आंटी को बोला- आंटी प्लीज, हम जल्दी से चुदाई शुरू करें? आपको देखकर अब और नहीं रहा जा रहा!

आंटी ने कहा- ठीक है. पहले मेरी चूत चाटो.

हम 69 पोजीशन में आ गए और एक दूसरे के लंड और चूत को चूसना शुरू कर दिया.
वो बहुत मजे से मेरे लंड को चूस रही थी, आज वह बहुत जोश में लग रही थी.

और मैं भी उनकी चूत को देखकर पागल हुआ जा रहा था.

करीब आधे घंटे तक इसी पोजीशन में रहने के बाद आंटी ने बोला- आओ मेरे राजा बेटा, अब और नहीं रहा जा रहा!

मैंने आंटी को बेड पर लेट दिया और उनकी दोनों टांगें खोल दी.
अपना लंड मैंने आंटी की चूत में रखा और पहला धक्का मारा तो मेरा लंड फिसल गया.

आंटी ने कहा- फिर से कोशिश करो!
तो मैंने अपना लंड उनकी चूत पर रखा और दोबारा धक्का मारा तो मेरा लंड फिर से फिसल गया.

मैंने आंटी से पूछा- लंड अंदर क्यों नहीं जा रहा?
तो आंटी ने कहा- मैं कई महीनों से चुदाई नहीं की है और राहुल के पापा भी मुझे खुश नहीं कर पाते. इनका लंड तुमसे छोटा है. ये जब भी मुझे चोदते हैं तो मुझे मजा नहीं आता।

आंटी ने मेरा लंड पकड़ा और अपनी चूत में लगाया और धक्का मारने को कहा.

मैंने अपनी पूरी ताकत से धक्का मारा तो मेरा टोपा चूत में घुस गया.
आंटी के मुंह से आह की आवाज निकली.

फिर मैंने दूसरा धक्का मारा और मेरा पूरा लंड उनकी चूत में घुस गया.
आंटी बहुत जोर से चिल्लाने लगी तो मैंने उनका मुंह बंद कर दिया जिससे आंटी की आवाज राहुल के कमरे तक ना जाए.

और मैं एक हाथ से उनके दूध को पकड़कर मुंह से चूसने लगा.
थोड़ी देर बाद आंटी शांत हुई तो मैंने अपना हाथ आंटी के मुंह से हटा लिया और बहुत धीरे-धीरे धक्के मारने लगा.

आंटी भी अपनी कमर उठा उठा कर मेरा साथ दे रही थी।

थोड़ी देर ऐसे ही चोदने के बाद मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और जोर-जोर से आंटी को चोदने लगा.

आंटी के मुंह से सिसकारियां निकलने लगी.
हम दोनों सेक्स का पूरा मजा ले रहे थे।

लगभग 15 मिनट इसी पोजीशन में चुदने के बाद आंटी ने मुझे रोक दिया और कहा- अब पोजीशन चेंज कर लेते हैं.
तो मैं हट गया और दोस्त की मम्मी की चुदाई रोक दी.

आंटी उठी और दोनों हाथ और पैर बेड में रखकर कुत्ते की तरह बैठ गई.
फिर आंटी ने मुझसे कहा- पीछे से मेरी चूत में अपना लंड डालो और मुझे चोदो!

मैंने अपना लंड अपने दोस्त की मम्मी की चूत में डाला और जोर जोर से चोदने लगा.
आंटी भी सेक्स का मजा ले रही थी और सिसकारियां लेती जा रही थी।

इसी तरह रातभर पोजीशन बदल बदल कर हमने कई बार चुदाई की और सुबह तक मैं आंटी को चोदता रहा।

सुबह 5:00 बजे मैंने दीदी को फोन किया और उनको दरवाजा खोलने को बोला.

मैं जल्दी से छत पर गया तो दीदी छत पर ही खड़ी थी.
दरवाजा बंद करके मैं दीदी के साथ कमरे में आ गया.
हमने एक दूसरे को किस किया और एक दूसरे को गले लगाया.

फिर मैंने दीदी की चूत चाटी और बूब्स दबाए. दीदी ने मेरा लंड चूसा और हम दोनों साथ में झड़ गए और फिर हमने कपड़े पहने और सो गए।

दोस्तो, आपको मेरी यह इंडियन आंटी सेक्स स्टोरी कैसी लगी मुझे मेल करके जरूर बताना।

अगर आप मेरी और दीदी की चुदाई की कहानी भी पढ़ना चाहते हैं और यह जानना चाहते हैं कि मैंने आंटी को फिर से कैसे चोदा तो मुझे मेल करके जरूर बताएं।

आप मुझे पर मेल कर सकते हैं।

Posted in First Time Sex

Tags - bhai behan ki chudaicollege girlgaram kahanihindi mein chudai ki kahanihindi sexy storyhot girlkamuktamastram hindi sex storiesnangi ladkioral sexantervadnasax story in hindiगर्लफ्रेंड की चुदाई