भाई ने दिया प्यारा बर्थडे गिफ्ट Part 1 – Antrvasan

भाई बहन टीनेज़ सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैं अपने भाई के साथ एक कमरे में पीजी पर रहती थी. भाई मोबाइल पर पोर्न देखते थे, मैं अन्तर्वासना की सेक्स कहानियाँ पढ़ती थी.

यह कहानी सुनें.

.(”);

मेरा नाम रूचि है।
अभी मेरी उम्र 23 साल है। मेरा कद 5′ 6″ है।
मेरा रंग गोरा है और फीगर 30-27-32 है।

मेरे परिवार में माँ पापा के अलावा एक भाई है रोहित जो मुझसे 3 साल बड़ा है.
फिर मेरी बड़ी बहन रिया जो मुझसे 1 साल बड़ी है और सबसे छोटी मैं!

रोहित भाई 5 फ़ीट 11 इंच के हैं, गोरे और सुगठित शरीर के!
रिया की लम्बाई 5 फ़ीट 4 इंच है और फीगर 33-29-34 है।

जो भाई बहन टीनेज़ सेक्स कहानी मैं बताने जा रही हूँ वो न सिर्फ अन्तर्वासना पर मेरी पहली कहानी है, बल्कि मेरे लिए सेक्स का प्रारम्भ भी है।

कॉलेज में मेरा दाखिला लखनऊ के एक स्कूल में हो गया।
रोहित भाई भी लखनऊ ही पढ़ते थे और पीजी में रहते थे।

मैं पहली बार घर से इतना दूर रह रही थी तो मैं उन्हीं के साथ उनके रूम में रहने लगी।

बचपन से हम तीनों भाई बहन आपस में बहुत खुले तरीके से रहते थे – जैसे साथ नहाना, साथ सोना, एक दूसरे की मालिश करना!

उस समय मेरे मन में कोई कामुक विचार नहीं आते थे।
पर यहां आने के बाद मुझे भाई का व्यव्हार थोड़ा अजीब लगता था।
वो अपना बेड अलग कर सोते थे और वैसे खुले खुले नहीं रहते थे।

बहुत बार तो मैंने रात में सोते टाइम उनके फ़ोन से पोर्न की आवाज़ें सुनी थीं।

कॉलेज में दोस्तों से सुनकर मैंने भी बहुत बार छुप कर भाई के फ़ोन में अन्तर्वासना पर कहानियां पढ़ लेती थी।

इससे पहले मैं किसी लड़के से उतना बात नहीं करती थी पर अब एक तो 19 की उम्र और मेरे हारमोन्ज़ का बदलाव, मैं भैया के फ़ोन से कामुक आवाज़ें सुन कर अपने स्तनों को ही मसल लेती थी।
कुछ ही समय में मेरा उनीसवाँ जन्म दिन आ गया।
इत्तेफ़ाक़ से इस बार मेरा जन्मदिन शुक्रवार को पड़ा था।

भैया जानते थे कि मैं गर्मी के मौसम में घर में कम, छोटे और हल्के कपड़े पहनना पसंद करती हूँ।
और गर्मी में आराम रहे, इस वजह से मैं अपने अंडर आर्म्स और चूत के बालों को हटाती रहती हूँ.

तो क्लास के बाद मैं रूम में पढ़ रही थी, भैया बाहर से आये तो उनके हाथ में 2 बैग्स थे।

एक में से उन्होंने एक कप केक, एक कैंडल और कुछ खाने के सामान निकाले.
और दूसरे में से एक टॉप और एक काले रंग की शार्ट स्कर्ट – बिल्कुल वैसी ही जैसी मैं गर्मी में पहन कर सोना चाहती हूँ।

पहले हमने छोटा सा सेलिब्रेशन किया और फिर भैया ने टॉप दिया मुझे!

टॉप लाल रंग का क्रॉप टॉप था और उसमें कन्धों पर स्ट्रिप्स थे जिससे मेरी ऊपर की पीठ और आधे चूचे दिख रहे थे।

मैंने भैया से कहा- मैं वाशरूम से चेंज करके आती हूँ.
पर वाशरूम ख़राब था और प्लम्बर उसकी मरम्मत कर रहा था।

चूँकि हम बचपन से घुले मिले थे तो भैया ने कहा- यहीं रूम में बदल लो।

गर्मी के वजह से और आराम के लिए मैंने अपनी टीशर्ट के नीचे ब्रा नहीं पहनी थी।

पर भैया से खुला होने के वजह से मैंने भैया की तरफ पीठ कर के टी शर्ट उतार दिया और वो टॉप पहन लिया।

टॉप मेरे नाभि से थोड़ा ही नीचे थी, पर थोड़ी छोटी और टाइट होने के वजह से मेरे चूचे आधे दिख रहे थे.
यूँ कह लीजिये कि मेरे निप्पल्स और उनके नीचे का नहीं दिख रहा था।

मैंने भैया से पूछा- देखो कैसा है?
तो उन्होंने कहा- स्कर्ट भी पहन कर देख लो अभी ही! अगर वापस करना हो तो आज या कल ही हो जायेगा।

और फिर मैंने अपनी निकर उतार कर वो स्कर्ट भी पहन ली।

आज से पहले मुझे भैया के सामने कपड़ों में अजीब नहीं लगा था पर आज न जाने क्यू शरीर में एक सिहरन सी हो रही थी।

मैं जब पहन कर भैया की ओर घूमी तो देखा कि वो बस मुझे ही देखे जा रहे हैं।

फिर उन्होंने पूछा- टॉप और स्कर्ट ठीक तो हैं ना? अगर छोटी या टाइट हैं तो मैं बदल आऊं!

अब मेरे मन में कामुकता उठ रही थी, मैंने अपनी सहेलियों से सुना था ऐसे अहसास के बारे में!

मैंने भैया से कहा- देखो ना भाई, ये टॉप ज्यादा खुली है क्या?
और उसे नीचे से थोड़ा और खींचा जिससे मेरे निप्पल भी बाहर आ गए जो धीरे धीरे कामुकता से कड़े हो रहे थे।

फिर एक हाथ से टॉप को वैसे ही पकड़ कर दूसरे साथ से दोनों चूचों को थोड़ा सा ऊपर उठाकर पूछा- और टाइट भी है क्या?
भाई तो देखते रह गए, वो खड़े हुए तो मुझे उनके लिंग का उभार साफ दिख रहा था।

भाई पहले मेरे सामने आकर खड़े हो गए, दोनों हाथों से मेरे दोनों निप्पलों को पकड़ा और हल्का सा मसल दिया।

मेरी आँखें बंद होने लगीं और हल्का सा सीत्कार निकल गया मेरे मुंह से!

फिर भाई थोड़ा और करीब आये और अपने हाथ से मेरे दाहिने चूचे को पूरा पकड़ कर के टॉप के अंदर कर दिया.
तब बायें चूचे को पकड़ा, थोड़ी देर देखा ध्यान से, उसे सहलाया और उसे भी अंदर कर दिया।

मेरी आँखें बंद हुई जा रही थी और मैं भैया की ओर झुकती जा रही थी।
तब तक भाई ने कहा- अभी ठीक है? रुको मैं देखता हूँ।

फिर भाई मेरे पीछे आ गए और एक हाथ मेरे कमर पर से ले जाकर मेरे नंगे पेट को पकड़ लिया; हल्का सा अपने करीब खींचते हुए दूसरे हाथ से मेरे एक चूचे को पूरा हाथों में ले लिया।
वे हल्का सा दबाते हुए उसे बाहर निकल कर सहलाने लगे और दो उंगलियों से निप्पल रगड़ने लगे।

फिर भैया ने दूसरे हाथ से मुझे एकदम खुद से चिपका कर मेरे दाहिने चूचे को भी अपने हाथों में भर लिया और उसे भी सहलाने लगे।
तब वे बोले- जब आखिर बार देखा था तो ये इतने बड़े नहीं थे, अब थोड़े से ज्यादा बड़े हो गए हैं … और प्यारे भी!

एक हाथ से मेरे चूचे को मसलते हुए भाई ने एक हाथ मेरे चिकने कमर से नीचे ले जाते हुए, मेरे स्कर्ट के अंदर डाल दिया.
फिर भाई मेरी जांघों को सहलाने लगे और बोले- स्कर्ट भी छोटी लग रही या ठीक है?

भैया का लंड अब एकदम तन गया था और मेरे गांड से रगड़ रहा था.
अब भैया की हरकतों से मुझे बर्दाश्त भी ना हो रहा था।

इधर मेरे जांघ सहलाते सहलाते भाई का हाथ जैसे ही मेरे नाभि के नीचे से होकर स्कर्ट के अंदर और पैंटी के अंदर गया, मैंने भाई के लोअर में हाथ डाल कर उनका लंड पकड़ लिया।

भाई मेरे हरकत से हैरान रह गया.
मैंने भाई से पूछा- ये क्या है भाई?

भाई ने अपना लोअर और चड्डी नीचे सरका कर कहा- इसे लंड कहते हैं!
और मेरे हाथों से उसे सहलवाते हुए कहा- इसे ऐसे सहलाओ।

भैया का लंड कम से कम 5.5 इंच का रहा होगा और लगभग 3 इंच मोटा रहा होगा. लंड की चमड़ी मुलायम थी और वो बाकी शरीर के तुलना में गर्म था।

अब मुझे यक़ीन था कि आज मेरी चुदाई होकर रहेगी।

मैं लंड सहलाने लगी, मैंने कभी लंड ना तो देखा था ना ही पकड़ा था, तो मेरा सारा ध्यान उधर ही था।
इस सब में मुझे ध्यान न आया कि मेरे दोनों चूचे बाहर ही हैं।

इसी का फायदा उठा कर भाई अपने उँगलियों से मेरी चूत रगड़ने लगे।

मेरी आँखें बंद हो गयीं और मैं आह आअह ह्ह्ह की कामुक आवाज़ें निकालने लगी।

भाई ने मुझे आने पास खींचा और मेरी टॉप ऊपर कर के मेरे चूचों को हाथों में भर कर उन्हें हल्के से दबाने लगे।
मेरी आँखें बंद हो गयीं और मुँह से आह आह की आवाज़ें निकलने लगीं।

मैंने दोनों हाथों से कस के पकड़ लिया उन्हें!
उन्होंने कहा- शर्म आ रही है?
मैंने कहा- हाँ!

तो भाई ने लाइट बंद कर के नाईट बल्ब ऑन कर दिया।

फिर वे मुझे बेड तक ले गए और लिटा दिया मुझे!
भाई ने अपनी टीशर्ट उतार दी और कहा- टॉप उतार दो, नहीं तो ख़राब हो जाएगी। मैं दूसरी लेते आऊंगा।

मैंने शर्माते हुए टॉप उतारा ही था कि भाई ने स्कर्ट खींच कर उतार दिया।
भाई ने कहा- आज एक और गिफ्ट दूंगा मैं तुम्हें!

मेरी पैंटी उतार कर भाई मेरे ऊपर ही लेट गए और मुझे किस करने लगे।

जैसे ही उनके होठों में मेरे होठों को छुआ, मेरी आँखें बंद हो गयीं और पूरे शरीर में रोमांच की लहर दौड़ गयी।
मुझे ऐसा अहसास आज तक नहीं हुआ था।

मैं भी भाई को किस किए जा रही थी।
भाई का एक हाथ मेरे चेहरे को पकड़े था तो दूसरा मेरे चूचे मसल रहा था.

और भाई का लंड मेरे चूत की दरार पर रगड़ खा रहा था जिससे मेरी कामुकता बढ़ती ही जा रही थी।
मैंने भाई को रोक कर कहा- भाई अब चोद दो मुझे!

भाई हैरान रह गए, उन्होंने पूछा- तूने ऐसे शब्द कहाँ से सीखे?
तो मैंने बताया कि जब वो रात में पोर्न देख कर सो जाते थे तब मैं उनके फ़ोन और अन्तर्वासना कहानियां पढ़ती थी और एक दो बार कॉलेज दोस्तों के फ़ोन पर पोर्न भी देखा था।

और ये भी बताया कि कैसे मेरे सारे दोस्त सेक्स की बातें करते थे तो मेरा भी बहुत मन होता था चुदने का।

भाई ने कहा- तू तो बड़ी ठरकी निकली, पहले बोला होता तूने तो मुझे बाहर नहीं जाना पड़ता, या मुठ नहीं मारनी पड़ती न! मुझे शक तो तभी था जब मैंने अपने ब्राउज़र हिस्ट्री में अन्तर्वासना की कहानियां देखा था। अब तू सब जानती है तो आज महसूस भी कर ले!

भाई मेरे पैर फैला कर बीच में आ गए, मेरी जांघों पर किस करने लगे.
किस करते करते उनके एक हाथ ने मेरे कमर को पकड़ा हुआ था तो दूसरे ने मेरे दाहिने चूचे को।

मैं आँखें बंद कर के मजे ले रही थी कि तभी भैया ने अपनी जीभ से मेरे चूत को चाटना और चूसना शुरू कर दिया।
मेरे पूरे बदन में जैसे झुरझुरी सी दौड़ गयी। मैं अपने हाथ से भाई का सर अंदर दबाने लगी।

मेरे लिए ये और भी उत्तेजक अहसास था, मुझे अपने चूत में मिली जुली नमी महसूस होने लगी.

एक भाई की जीभ की और दूसरी इतनी कामुकता के वजह से मेरी चूत गीली हो रही थी।

मैं पूरे मदहोशी में भाई का सर बालों से पकड़ कर अपने चूत में दबाये जा रही थी, अपने निप्पल्स को बारी बारी मसल रही थी।

थोड़े देर बाद मैंने भाई से कहा- भाई अब डाल दो लंड, अब नहीं रुका जा रहा।
और मैंने भाई का सर बालों से पकड़ कर ऊपर किया और भाई को किस करने लगी।
मैं दूसरे हाथ से पकड़ कर भाई का लंड अपने चूत पर रगड़ने लगी।

भाई ने अपने लंड पर थूक लगाया और मेरे पैरों को फैला कर उनके बीच में आ गए और अपना लंड मेरी चूत पर रगड़ने लगे।

मैं कमर उठा उठा कर उनके लंड को अंदर लेने की कोशिश करती तो उन्होंने एक हाथ से मेरे कमर को पकड़ा और दूसरे से अपना लंड चूत के मुहाने रख कर के एक धक्का दिया.

मेरी तो जैसे सांसें थम गयी, मुझे बहुत ज़ोर से दुःख रहा था, मैंने अपने दोनों पैर से भैया को कस कर पकड़ लिया।

भाई ने दोनों हाथों से मेरे दोनों हाथों मेरे सर के ऊपर पकड़ कर मुझे किस करना शुरू कर दिया.

जब दर्द कम हुआ तो मैंने किस तोड़ कर कहा- भाई, अब चोदो अपनी बहन को!
भाई ने एक और झटका दिया और लंड पूरा बहन की चूत के अंदर!

दर्द अब और बढ़ गया था पर थोड़ी देर बाद दर्द कम होने पर भैया ने धीरे धीरे अंदर बाहर करना शुरू किया, साथ ही मेरे चूचे किस करते जा रहे थे।

धीरे धीरे दर्द कम होते चला गया और मुझे अच्छा लगने लगा।
पर अभी भी दर्द हो ही रहा था हल्का सा!

कभी धीरे कभी तेज धक्के मारते हुए भाई मुझे चोदे जा रहे थे.
हर धक्के पर मेरे चूचे हल्के से ऊपर नीचे हो रहे थे।

भाई के धक्कों से मेरी पूरा शरीर हिल रहा था और जैसे भाई का लंड बाहर निकलता एक खालीपन सा लगने लगता।
फिर जैसे ही अगले पल भाई धक्का लगाकर लंड अंदर डालते तो इतना अच्छा लगता।

ऐसे ही चोदते चोदते भाई के धक्के धीरे होते गए.
भाई ने कहा- अब तुम ऊपर आओ।

फिर भाई ने लंड निकला, मेरी चूत से निकला खून थोड़ा सा भाई के लंड पर भी लगा था।

भाई ने तौलिये से अपना लंड और मेरी चूत साफ़ की और लेट गए.

मेरे प्यारे दोस्तो, आपको भाई बहन टीनेज़ सेक्स कहानी पढ़ कर मजा तो जरूर आया होगा.
कमेंट्स और मेल में मुझे बताएं.

भाई बहन टीनेज़ सेक्स कहानी का अगला भाग: भाई ने दिया प्यारा बर्थडे गिफ्ट- 2

Posted in Family Sex Stories

Tags - antarvasna gay storyantervasna hindi storiesaudio sex storybhai behan ki chudaibur ki chudaicollege girldesi ladkigandi kahanihot girlkamvasnaचुतmami ki chudayi