मौसी की बेटी की कुंवारी चुत Part 2 – देसी चुदाई की कहानी

ब्रदर सिस्टर चुदाई का मजा मुझे मिला अपनी मौसी की बेटी से. वो बहुत गर्म माल थी. एक रात मैं उनके घर सो रहा था तो वो मुझे किस करने लगी.

साथियो, आप सभी का मेरी बहन की चुदाई की कहानी में स्वागत है.
ब्रदर सिस्टर चुदाई कहानी के पहले भाग
मौसी की बेटी ने अपनी सहेली से दोस्ती करवायी
में अब तक आपने पढ़ा था कि मैं अपनी बहन प्रिया की चुत चुदाई शुरू कर रहा था.

मैंने जैसे ही अपने लंड के सुपारे को चुत में पेला, तो उसकी मां चुद गई.
प्रिया- आह बहुत दर्द हो रहा है … निकाल ले.
मैं समझ गया कि इसको अभी और गर्म करना पड़ेगा.

अब आगे ब्रदर सिस्टर चुदाई:

मैं उसकी चुत से लंड निकाल कर अलग हो गया और उसको प्यार करने लगा.

कुछ देर बाद मैंने उसे मेरे ऊपर आने को कहा.
वो मेरे ऊपर चढ़ गई और मुझे किस करने लगी. साथ ही वो मुझे अपने हाथों से पकड़ कर अपनी चूची पिलाने लगी.

मैं भी उसके निप्पल को अपने होंठों से दबा कर चूस रहा था मगर वो अपनी पूरी चूची मेरे मुँह में डालने लगी.

प्रिया- आंह भाई … पूरा दूध मुँह में ले ले … आह साले पी जा कमीने … मेरा दूध पी ले आंह साले पूरा मुँह खोल ना!

मैं उसकी गांड को दबाते हुए बारी बारी से दोनों चूचियों को पी रहा था.

फिर मैंने उसको अपने नीचे लेटा लिया और उसके ऊपर चढ़ कर चूची पीते हुए उसकी चुत को एक हाथ से मसलना शुरू कर दिया.

कसम से दोस्तो, चुत में उंगली लेते ही वो जो उछली न … मेरी आधी उंगली चुत में घुस गई.
वो एकदम से सिहर गई.

एक दो मिनट तक चुत को उंगली से चोदने के बाद वो सामान्य हो गई और मेरी उंगली से चुत की खुजली शांत करवाने लगी.

फिर मैंने एक बार फिर से उसके मम्मों से नीचे आकर उसकी झांटों वाली चुत को चूमने लगा.
वो मेरे सर को पकड़ कर अपनी चुत से हटाने लगी.

प्रिया- आंह साले ये क्या कर रहा है … वहां गंदा है … उसे छोड़ दे.
मैं- प्रिया आज ये ही तो असली जगह है. मुझे तुम्हारी पूरी चुत आज खानी है. मैं इसे अपने मुँह में लेकर चूसना चाहता हूँ.

प्रिया- छी: ऐसे कैसे … तुझे घिन नहीं आएगी.
मैं- यही तो जन्नत है मेरी जान!

उसी समय प्रिया की चुत से कुछ सफेद रस निकलने लगा था.

मैंने उंगली से रस लिया और उसको दिखाते हुए कहा- ये है तेरी चुत का नमकीन अमृत … इसके निकलने का मतलब है कि अब तुम्हारी चुत लंड के लिए एकदम रेडी है.
प्रिया- तो देर किस बात की … चोद दे मुझे!

मैंने कहा- अभी रूको जरा.
प्रिया- भाई तुझे जो करना है, जल्दी कर … मुझे पेशाब आ रही है.

उसकी चुत की फांकों को मैंने अपने हाथों से फैला कर अपनी जीभ लगा दी.

मैंने जैसे ही अपनी जीभ उसकी चुत में डाली, वो सीत्कार करने लगी.

फिर मैंने धीरे से नीचे चुत में हाथ लगाकर उसे दबाते हुए उसकी फांकों को चाटने लगा.

प्रिया- आंह ये क्या कर रहा है … मुझे बड़ा अजीब सा लग रहा है भाई … पता नहीं क्या हो रहा है … आंह मज़ा आ रहा है भाई … मेरा दिल कर रहा है कि तेरा वो पूरा उसमें घुसा लूं.
मैंने कहा- क्या घुसा लूं … मेरी जान पूरा बोलो ना!

प्रिय- साले तेरे लौड़े को अपनी सीलपैक बुर में घुसाने का जी कर रहा है … अब तू ज्यादा चुदुर चुदुर न कर बस लंड पेल दे.
मैंने प्रिया की बुर में थूक लगा कर धीरे से एक उंगलो डाली.

वो दर्द से कराहती हुई बोली- मुझे दर्द हो रहा है.
मैंने उंगली बुर से निकाल कर उसी के मुँह में डाल दी.

वो एकदम से मेरी उंगली को हटा कर थूकने लगी.

मैं हंस दिया- कैसा लगा अपनी बुर का रस.
वो कुछ नहीं बोली.

मैंने कहा- अब क्या बोलती हो. मुँह में लंड लोगी!
प्रिया- भाई अब रहने दे … मुझे दर्द होने लगा है, मैंने आज तक किसी को किस भी नहीं किया था. पहली बार तेरा लंड अपने मुँह में कैसे लूँगी?

मैंने कहा- तू मेरा लंड मुँह में लेकर गीला करेगी, तभी तो ये चुत फाड़ पाएगा.
वो लंड चूसने से मना करने लगी.

मैंने बोला- ओके इस पर आयल लगा कर कर इसे आगे पीछे करो.

वो तेल लगा कर लंड को आगे पीछे करने लगी. मेरा लंड एकदम लोहे सा अकड़ गया. लंड की नसें बाहर से दिखने लगीं.

प्रिया मेरे लंड को गौर से देखने लगी.

प्रिया- तेरा इतना मोटा है … मेरे अन्दर कैसे जाएगा!
मैंने कहा- मेरी जान ये क्या, इससे भी मोटा लंड तुम अपनी चुत में अन्दर ले लोगी. आप अभी इसका कमाल देखना.

फिर मैंने उसको चित लेटा दिया और उसके ऊपर आकर उसकी चुत को पूरा चाटने लगा ताकि वो गीली हो जाए.

अब मैं उसके होंठों पर होंठ रख कर चुत पर लंड घिसने लगा.
वो सिसकने लगी.

मैंने उनक पैरों को पूरा फैला कर धीरे से लंड का सुपारा चुत में डाल दिया.

उसने दर्द से अपनी आंखें बंद कर लीं.

मैंने उसका मुँह दबाया और तेज ठोकर मार कर अपना आधा लंड डाल दिया.

वो चीखने लगी और रोने लगी- आंह भाई … बहुत दर्द हो रहा है मैं मर गई आं मुझे छोड़ दो … बाद में कर लेना.

मैंने बोला- थोड़ी देर ऐसे ही रह ले … अभी सब सही हो जाएगा.
मैं प्रिया को किस करने लगा और उसकी निप्पल चूसने लगा.

थोड़ी बार बाद मैंने थोड़ा सा लंड बाहर करके झटका मारा और अपना पूरा लौड़ा उसकी बुर में पेल दिया.

वो फिर से चीखी … मगर मैंने उसके होंठों पर अपने होंठों को लगा रखा था तो आवाज निकल ही नहीं पाई.

मैं पूरा लौड़ा बुर के अन्दर डालकर रुक गया और उसे सहलाने चूमने लगा.

कुछ देर बाद वो नॉर्मल हो चुकी थी, उसने कमर हिलानी शुरू कर दी.

मैंने समझ लिया कि इसका इंजन बोर हो गया है. बस लंड बाहर निकाल कर अन्दर पेल दिया.

वो धीमे स्वर में सिसकारियां लेने लगी- आआ अहह भाई धीमे करो … आआहह!

वो मेरे होंठों को काटने लगी और बोली- भाई ये क्या कर दिया तूने … मुझे तो एकदम तारे दिखा दिए … श भाई अब चोद दे मुझे … आह मजा आ रहा है .. आह और ज़ोर से … आंह पूरा लंड अन्दर डाल कर चोद मुझे!

मैं- आंह मेरी जान … बस अब तू देखती जा … आज मैं तेरी बुर को चोद कर फैला दूँगा. अगली बार से तू मोटे से मोटा लंड भी अपनी चुत में बड़ी आसानी से ले लेगी.

प्रिया- आंह चोद मुझे … आज मेरी बुर फाड़ दे … तू सच में मुझसे प्यार करता है … तो मैं हमेशा तुझसे ही चुदवाऊंगी … आह पेल दे साले अन्दर तक ठूंस लंड को मादरचोद.

मैं भी धकापेल चुदाई करते हुए उसे गाली देने लगा- ले भैन की लौड़ी … साली लंड खा मां की लौड़ी … तू बस चुत देती रहना … मैं तेरा गुलाम बन जाऊंगा.

अब मैं लंड के शॉट्स तेज़ी से लगा रहा था.

कुछ देर बाद मैंने उसको अपने ऊपर आने को कहा.
वो झट से मेरे लंड के ऊपर आ गई और अपनी चुत में लंड लेकर गांड उछालने लगी.

प्रिया के लम्बे लम्बे बाल उसके चेहरे के सामने आ जा रहे थे.

वो एकदम पोर्न ऐक्ट्रेस सी लग रही थी, उसके दूध बेहद द्रुत गति से हिल रहे थे.

मैंने उसके बालों को पकड़ कर अपनी तरफ खींचा और उसके होंठों को किस करने लगा.
उसके चुचों को दबाने और पीने लगा.

प्रिया- आहह भाई मुझे रोज तेरा लंड चाहिए. मैं अब बिना चुदे नहीं रह सकती. जिंदगी का सबसे असली मजा यही है. तू नहीं चोदेगा, तो मैं किसी से भी चुद जाऊंगी.
मैं बोला- तू किसी से नहीं चुदेगी. मैं हमेशा तेरी चुत चोदता रहूंगा. आह तुझे तो साली मैं अपनी रंडी बना कर रखूँगा.

प्रिया- वाह भाई … क्या मस्त बात कही तूने … अब मैं तेरी पक्की रंडी हो गई. तू सच में मुझे रंडी बना ले साले … आंह मेरी शादी के बाद भी तू मुझे चोदते रहना. तू जिससे कहेगा, उसके सामने चुत खोल दूंगी.
मैं- आंह तेरी चुत बहुत गर्म है. साला दिल कर रहा है कि इसको पूरी फाड़ दूँ. ले कुतिया आंह मेरा पूरा लंड ले रांड!

प्रिया- आहह भाई … मैं आ रही हूँ … आंह मुझे न जाने कुछ हो रहा है … आंह आंह और तेज चोद दे साले …आंह मां मैं गई ईई.

वो मुझे उत्तेजना में नौंचने लगी और काटने लगी.
मैंने उसके पैरों को अपने कंधों पर रखा और उसे लगभग दोहरी करके उसे ताबड़तोड़ चोदने लगा.

वो अपने चुचे दबाती हुई चुदने लगी.

कसम से दोस्तो, प्रिया के 34 नाप के गोल गोल तने हुए चुचे गजब पिस रहे थे.
इस वक्त वो इतनी कयामत माल लग रही थी कि मुझे अपने लंड को एक पल के लिए भी रोकना मुश्किल लग रहा था.

प्रिया- आंह भाई आह … अब तो निकल जा साले … कितना चोदेगा आंह मैं थक गई कुत्ते!
मैं बोला- साली अभी मेरा निकलने तो दे आंह बस कुछ देर और ले ले.

कुछ ही देर में मैंने लंड चुत से निकाल कर उसके मुँह में दे दिया और वो लंड में लगे अपनी चुत के रस को पीने लगी.
उसने लंड चूस चूस कर गीला कर दिया.

मैंने अब उसको घोड़ी बनने के लिए बोला.
वो झट से घोड़ी बन गई. मैं पीछे से उसकी चुत चोदने लगा.

वो गजब आगे पीछे हो रही थी.
मैंने आगे हाथ बढ़ा कर उसकी दोनों चुचियां पड़क लीं और उसकी पीठ को किस करते हुए चोदने लगा.
मेरा लंड इस पोजीशन में उसकी बच्चे दानी से टकरा रहा था.

कुछ देर बाद मैंने प्रिया को खड़ा करके पीछे से चोदते हुए चुचियां मींजने लगा.

इस समय मैं प्रिया को आईने के सामने चोद रहा था.
क्या गजब की माल लग रही थी वो!

वो भी मस्ती से मुझसे आंखें मिलाती हुई अपनी गांड पीछे को धकेल रही थी.

कुछ देर बाद मैं उसको चित्त लिटा कर उसके ऊपर चढ़ गया और बोला- बस अब मेरा होने वाला है. जल्दी बोल किधर निकालूं?

वो बोली- हां मेरा भी होने को है. तू चुत के ऊपर निकाल दे.

मैंने लंड निकाला और चुत पर रगड़ने लगा.
मेरे होंठ उसके होंठों से लगे थे तो उसने मेरे होंठों को काट कर खून निकाल दिया.

फिर पूरा रस निकल जाने के बाद वो आराम से मेरे नीचे लेट गई और मेरी आंखों में देखती हुई मुझे किस करने लगी.

प्रिया- तूने सच में आज मुझे एक लड़की होने का सच समझा दिया. अगली बार मैं तेरा लंड चूसकर रस निकालूंगी.

मैंने कहा- तुझे चोद कर मुझे तुझसे ज्यदा ख़ुशी हुई है. सच में तुम गजब की सेक्सी माल हो. तुझे कोई भी देखेगा तो चोद कर ही मानेगा.

वो बोली- ऐसे कैसे कोई भी चोद देगा … जब तक मैं उससे चुदने को राजी नहीं होऊंगी, तब तक कोई मां का लौड़ा मुझे हाथ भी नहीं लगा सकता.
ब्रदर सिस्टर चुदाई के बाद हम दोनों एक दूसरे से चिपक कर सो गए.

सुबह प्रिया ने मुझे किस करके जगाया और हम दोनों ने फिर से चुदाई शुरू कर दी.

अगली सेक्स कहानी में मैं आपको बताऊंगा कि कैसे मैंने प्रिया की चुत और गांड मारी. उसे लंड और डिल्डो से एक साथ चोदा.

अपनी बहन को चोदने के बाद मैंने उसकी उस सहेली को भी चोदा जो मेरी गर्लफ्रेंड बन गई थी.

फ्रेंड्स आप मुझे मेल से जरूर बताना कि आपको मेरी ब्रदर सिस्टर चुदाई कैसी लगी.

Posted in Family Sex Stories

Tags - bahan ko choda kahanibhai behan ki chudaibur ki chudaicollege girldesi khanaidesi ladkihindi sex kahanihot desi storieskamvasnaoral sexjija saali chudai