मौसी Partमौसा के साथ थ्री Partसम सेक्स का मजा – Sex Hindi Story

मौसी की चूत की चुदाई का अवसर मुझे कैसे मिला, इस कहानी में पढ़ें. मैं उनके घर रहकर ट्रेनिंग कर रहा था. मैं मौसी मौसा को सेक्स करते देखता था.

दोस्तो, मेरा नाम राजा है. ये मौसी की चूत की चुदाई कहानी मेरी, मौसी और मौसा के बीच की है.
मैं अपनी ट्रेनिंग के सिलसिले में मौसा जी के साथ आकर रहने लगा था.

पहले मैं आपको अपनी मौसी के बारे में बता देता हूँ.
मेरी मौसी की उम्र 43 साल है और वो बहुत सेक्सी हैं. मेरी मौसी रात में जब पारदर्शी नाइटी पहनती हैं, तो उन्हें देख कर मेरा लंड खड़ा हो जाता है.
उनके बूब्स भी बहुत सेक्सी हैं. मैंने बहुत बार इस तरह की पारदर्शी नाइटी में देखा है.
वो मुनमुन सेन सी लगती हैं.

उनकी एक लड़की है जिससे मेरी खूब बनती है.
हम दोनों सेक्स के टॉपिक पर खुल कर खूब बात करते हैं.
हालांकि वो सिटी से बाहर जॉब करती है तो वो बाहर ही रहती है.

रात में मौसा मौसी अपने कमरे में घुस कर बिंदास चुदाई करते हैं. उनकी चुदाई की आवाजें कमरे के बाहर सबको सुनाई देती हैं लेकिन वो दोनों इस बात की जरा भी फ़िक्र नहीं करते हैं.

चूंकि अब घर में मैं ही तीसरा सदस्य था तो मैं उन दोनों की चुदाई की आवाजों का लुत्फ़ लेता था.
मुझे उस समय उनकी इस बिंदास चुदाई का मतलब समझ नहीं आया था. वो मुझे बाद में मालूम चला था.

जब ये बात मैंने अपनी मौसी की बेटी को बताई, तो वो भी हंसने लगी.

इसका मतलब ये था कि अपनी मम्मी की चुदाई की इस आदत का उसको भी पता था.

अब मैं ही घर में था, तो उन दोनों के रास रंग देखता रहता था.

एक दिन मैंने देखा कि मौसी जी किचन में थीं और मेरे मौसा जी अन्दर घुस गए.
मैंने देखा कि मौसा जी तो इतने बड़े वाले ठरकी हैं कि वो मौसी को किचन में आकर भी चोद देते हैं.

मेरी मौसी अक्सर सोने से पहले अपनी चड्डी ब्रा बाथरूम में टांग देती हैं और मैं उसको अपने कमरे में लाकर रात में मुठ मारता रहता हूँ और मौसी की पैंटी को चूत वाली जगह से चाट भी लेता हूँ.

मुझे बहुत मन होता है कि मैं अपनी मौसी के साथ सेक्स करूं.

ये बात उन गर्मियों के मौसम की है जब मैं, मेरी मौसी मौसा और उनकी बेटी किसी रिश्तेदार की शादी में 3-4 दिन के लिए गांव गए हुए थे.
उस वजह से मौसा जी को चुदाई करना नहीं मिल पाया था.

जब हम सब लोग वापस अपने शहर आ गए तो मैंने देखा कि मेरे कमरे का एसी काम नहीं कर रहा था.
उस रात ज्यादा गर्मी थी तो उस वजह से हम सब मौसा जी के ही रूम में सो गए.

बिस्तर पर पहले मौसा, फिर मौसी लेट गईं और उनकी बेटी में साइड में सोफे में सो गई.

रात के एक बजे के करीब मेरी नींद खुली तो मैं बाथरूम से आकर सो गया.
मुझे नींद नहीं आ रही थी.

मैंने देखा कि मौसा मौसी के बीच कुछ हलचल होने लगी थी.
मैं पहले तो बस यूं ही देखता रहा.

एसी की एलईडी की हल्की रोशनी कमरे में उजाला सा कर रही थी. मुझे कुछ कुछ समझ आ रहा था.

मैंने देखा कि मौसा ने मौसी की जांघ के ऊपर हाथ रखा और मौसी के गाउन को ऊपर कर दिया.

फिर धीरे से मौसा जी ने मौसी की गांड के पास से गाउन उठाया.
मौसा को लग रहा था कि उनकी बेटी और मैं सो रहे हैं लेकिन मैं जाग रहा था.

फिर मौसा ने गाउन को ऊपर किया तो मौसी की पैंटी दिखने लगी.

मैं तो देख कर चकित रह गया कि मौसी ने थोंग चड्डी पहनी हुई थी जो उनकी गांड की दरार में फंसी हुई बड़ी ही मादक लग रही थी.

मौसी ने अपनी चड्डी को उतार दिया.
तब तक मौसा का लंड उनकी चड्डी में से एकदम खड़ा हो गया था.

मौसी ने मौसा का लंड बाहर निकाला.
उनका लंड एकदम कड़ा हो गया था. ऐसा लग रहा था कि लंड मौसी की चुत का प्यासा हो गया था.

इतने में मौसी ने अपनी बेटी की तरफ देखा, फिर मेरी तरफ़ देखा कि हम दोनों जाग तो नहीं रहे हैं.

उन्होंने चादर को अपने पैर के ऊपर लिया और पीछे से खुला ही रखा.

तभी मौसा जी ने मौसी की चूत में उंगली डाल दी और मौसी ने मौसा के लंड को पकड़ लिया.
अपने एक हाथ से मौसा जी ने मौसी की चड्डी को जांघों के नीचे सरका दिया और मौसी के गाउन को पेट के ऊपर कर दिया.

मौसी की चुत एकदम गोरी थी, अन्दर से एकदम गुलाबी दिख रही थी.
मुझे तो ऐसा लग रहा था कि अभी ही मौसी के पास जाकर उनकी चूत चाट लूं.

फिर मौसा जी ने मौसी को अपने पास खींचा और उन्हें पलट कर मौसी का मुँह उनकी बेटी की तरफ़ कर दिया और पीछे से लंड पेल दिया.
उन दोनों की इसी पोजीशन में चुदाई होने लगी.

दस मिनट तक उन दोनों ऐसे ही चुदाई की और मौसा जी अपना माल मौसी की चूत में निकाल दिया.
वो झड़ कर पीछे हट गए.

मैंने देखा कि मौसी कुछ गुस्सा हो गई थीं, शायद वो झड़ी नहीं थीं और मौसा जी ने उन्हें प्यासा छोड़ दिया था.

मौसी एक मिनट तक मौसा को गुस्से से देखती रहीं. फिर अपनी चड्डी ऊपर करके वो बाथरूम में चली गईं और चूत को साफ करके अपनी चड्डी ब्रा को उतार कर बाथरूम से वापस आ गईं.

वो बाथरूम से आकर मौसा को देखने लगीं.
मौसा जी थक कर आंख बंद करके लेट गए थे.

मौसी जी मुँह बनाए हुए उनके बाजू में सो गईं.

यह नजारा देख कर मेरा हाल खराब हो रहा था. मैं सोच रहा था कि काश मौसा की जगह मैं होता, तो अभी मौसी को चोद कर ठंडी कर देता.

तभी मौसा जी की आंख खुल गई और वो फिर से मौसी जी के मम्मों को अपने मुँह में दबा कर चूसने लगे.

कुछ मिनट बाद मौसा जी फिर से सो गए.

फिर अगले दिन मेरे कमरे का एसी सही हो गया.

उस दिन शाम को मैं और मेरी मौसी की बेटी मिलकर छत पर मस्ती कर रहे थे.

मैंने उससे कहा- रात को मैंने मौसी मौसा को सेक्स करते हुए देखा था.
वो पूछने लगी- अरे वाह … क्या क्या और कैसे हुआ था?

मैंने उसे सारी स्टोरी बता दी.

वो बोली- यार, मैंने भी उन दोनों को बहुत बार चुदाई करते हुए देखा है. एक दिन तो मुझे बेड में पापा का यूज्ड कंडोम भी मिल गया था.

उसने मुझे एक बात और भी बताई कि मौसी मौसा को अपनी चुदाई में तीसरा पर्सन भी चाहिए.
बहुत बार मौसी अपने घर में पीजी में रहने वाली लड़की को फंसा कर मौसा जी के पास लाती हैं और मौसा उसके साथ सेक्स करते हैं.

फिर लगभग 5 दिन बाद मेरी मौसी की बेटी भी अपनी जॉब पर वापस चली गई.

मैं अपने ट्रेनिंग सेंटर चला गया था.

जब मैं घर वापस आया तो देखा कि दरवाजा खुला है, केवल जाली वाला दरवाजा लगा है.
मैंने हल्का सा धक्का देकर खोलने की कोशिश की तो वो खुल गया.

मौसा मौसी को इस बात का पता नहीं चला.
मैं अन्दर आया और देखा कि मौसा के रूम का दरवाजा जरा खुला सा था.

मैंने झांक कर अन्दर देखा तो मौसा मौसी अपने बेड में नंगे लेटे हुए थे.

मौसी बड़ी ही सेक्सी लग रही थीं. उनके जिस्म पर कपड़े की एक धजी भी नहीं थी. उनके हाथ की चूड़ियां आवाज कर रही थीं.

आज दिन की रोशनी में मेरी मौसी बहुत ही गोरी दिखाई दे रही थीं.
वो अपने एक हाथ से मौसा जी के लंड को सहला रही थीं और मौसा जी ने मौसी की चुत में उंगली डाल रखी थी.

ये नजारा देख कर मेरी आंखें खुली की खुली रह गईं लेकिन मेरे आने की आहट शायद उन्हें मिल गई थी.

मौसी जी ने आवाज लगाई- कौन है?

मैं जल्दी से दूर हुआ और अपने आने की बात कह कर अपने रूम में जाने लगा.

तभी मौसी ने जल्दी से अपना गाउन पहना और बाहर आ गईं.

मैं कमरे की जगह किचन में चला गया था ताकि उनको पता न चले कि मैंने सारा सीन देख लिया है.

फिर मैं बाथरूम में चला गया और सीन याद करके मुठ मारने लगा.

उस दिन मैं मौसी को याद कर रहा था कि काश मुझे मौसी की चूत चोदने मिल जाती और मैं उन्हें चोद लेता.

फिर रात में हम सब खाना खाकर सो गए.
मैं अपने कमरे में आकर सो गया और मौसी मौसा अपने रूम में.

रात में मुझे एसी में ठंड सी लगी तो मैं कंबल लेने के लिए मौसी के रूम में आ गया.

उनके रूम का दरवाजा जैसे ही मैंने खोला तो देखता ही रह गया.
मेरी मौसी बेड में नंगी कुतिया बनी हुई थीं और मौसा जी मौसी की गांड मार रहे थे.

मेरी मौसी की चड्डी ब्रा और गाउन सब ज़मीन में पड़े हुए थे.

मैं ये जताते हुए उनके रूम में घुस गया कि मैंने अन्दर आने से पहले देखा ही नहीं था.

मुझे देखते ही वो दोनों हट गए और मौसी ने चादर ढक ली.

मैं बोला- आप लोग करो … मैं तो बस कम्बल लेने आया था.
और मैं हंसता हुआ रूम से बाहर निकल गया.

मुझे हंसता देख कर मेरे मौसा ने आवाज़ लगाई- राजा रूम में आना!

मैं फिर से रूम में गया तो मौसी चादर के अन्दर थीं और मौसा जी ने चड्डी पहन ली थी.

मौसा ने मुझसे कहा- तुझे ऐसा देख कर कोई दिक्कत तो नहीं हुई?

मैंने उनके मुँह से ऐसा सुन कर जरा शर्माने का नाटक किया.

मौसा ने लंड सहलाते हुए कहा- मैं तेरी मौसी को बहुत प्यार करता हूँ, इसी लिए अभी तक उनके साथ सेक्स करता हूँ. यदि तू ये सब हमारी बेटी को नहीं बताएगा तो तेरे लिए एक गिफ्ट है.
मैंने कहा- क्या है?

मौसा बोले- तुझे अपनी मौसी कैसी लगती है?
मैंने कहा- अच्छी.

मौसा ने कहा- और मैं अच्छा नहीं लगता तुझे?
मैंने कहा- आप भी अच्छे लगते हो.

तो मौसा ने कहा- चल आ जा, आज तू भी हम लोगों के साथ सेक्स का मजा ले ले. तुम, मैं और तेरी मौसी एक साथ सेक्स का मजा लेते हैं.
मुझे तो मौसा जी की बात सुन कर विश्वास ही नहीं हो रहा था.

तभी मौसी जी ने भी कहा- हां आ जा राजा, तू भी हमारे साथ एन्जॉय कर ले.

एक मिनट सोचने के बाद मैंने कपड़े उतारे और बेड में चला गया.

मैं मौसी मौसा के बीच में आ गया.

मौसी जी मेरे लंड को सहलाने लगीं और लंड खड़ा करने लगीं. मौसा मेरे एक हाथ को अपने लंड पर रखवा कर लंड हिलवाने लगे.

मौसा जी कहने लगे- आज हम थ्रीसम सेक्स करेंगे.

मैंने मजा लेना शुरू कर दिया, मैं अपने मुँह से मौसी के एक निप्पल को चूसने लगा.
मौसी जी अपना दूध मुझे पिलाने लगीं तो मैं उनकी चुत में उंगली करने लगा.

हम तीनों को बहुत मजा आ रहा था.

कुछ ही देर में सेक्स की मस्ती बढ़ गई और मेरी मौसी जी अपनी टांगें फैला कर चित लेट गईं.
मैं मौसी की टांगों के बीच में आकर उनकी चुत चाटने लगा. मैं अपनी जीभ से अपनी मौसी की झांट रहित गोरी चूत को चाटने लगा.

लगभग दस मिनट में मौसी पूरी तरह से गर्म हो गई थीं.

मौसी की चुत से जो पानी निकल रहा था उसमें मौसी की पेशाब भी मिल रही थी.
मुझे एकदम नमकीन जूस जैसा स्वाद लग रहा था.

फिर मैं और मौसी जी 69 की पोजीशन में आ गए.
अब मौसी मेरा लंड चूस रही थीं और मैं मौसी की चुत चाट रहा था.

मौसा जी साइड में लेट कर हम दोनों का सेक्स गेम देख रहे थे.

फिर मौसा जी बोले- राजा अब सेक्स करो … अपनी मौसी की चुत में लंड पेल दो.

मैंने मौसी की टांगें चुदाई की पोजीशन में खोलीं और अपना लंड डाल दिया.
लंड लेते ही मौसी की मादक आवाज निकल गई और मैं लंड चूत में पेल कर आगे पीछे करने लगा.

फिर मौसा जी मेरे ऊपर चढ़ गए और मेरी गांड के छेद में अपना लंड रगड़ने लगे.
मेरे आगे पीछे होने से मौसा का लंड मेरी गांड से लड़ रहा था.

मैंने समझ लिया कि मौसा जी का मूड कुछ और ही है. मैंने मौसी की चूत से लंड बाहर निकाला और हम तीनों खड़े हो गए.

खड़े होकर मैंने मौसी की एक टांग उठाई और उनकी चुत में लंड डाल दिया.
मौसा ने पीछे से आकर मौसी की गांड में लंड पेल दिया.

मौसी को डबल लंड का मजा आ रहा था. मौसी ‘आ ऑश …’ कर रही थीं और बोल रही थीं- आंह राजा … आज तो तेरी वजह से मेरे दोनों छेदों को एक साथ डबल मजा मिल गया.

फिर कुछ देर बाद मौसी घोड़ी बन गईं और मौसा जी के लंड को मुँह में लेने लगीं.
मैं डॉगी स्टाइल में मौसी की गांड मार रहा था.

ऐसे ही 15 मिनट तक मौसी की गांड मारने के बाद मैंने देखा कि मौसा ने अपना माल मौसी के मुँह में निकाल दिया और अलग हो गए.

मौसा बोले- अब तुम दोनों मजा लो.
वे कमरे से बाहर निकल कर हॉल में सोफे पर जाकर लेट गए.

अब मैं और मौसी ही चुदाई का मजा ले रहे थे. हम दोनों जानवर बन गए थे.

मैंने मौसी जी कहा- मेरा मन आपको किचन में चोदने का कर रहा है.
वो बोलीं- हां उधर ही चलते हैं.

हम दोनों रसोई में आ गए.

मैंने मौसी को प्लॅटफॉर्म पर बिठा दिया और मौसी की टांगें खोल कर उनकी चुत में लंड पेल दिया.

मैंने उधर मौसी के साथ हचक कर सेक्स किया.
फिर झड़ने को हुआ तो मैंने मौसी के मुँह में लंड दे दिया.

मौसी ने लंड चूस कर रस खा लिया.

मैं नशे से मौसी को देख रहा था.
मौसी भी शायद अभी एक पारी और खेलने के मूड में थीं.

उन्होंने फ्रिज से केक निकाला और मुझे दिखाया.
मैं समझ गया कि क्या करना है.

मैंने उनसे केक लेकर मौसी के मम्मों पर मल दिया, उनकी चुत और गांड में केक लगा दिया.
फिर मौसी जी की गांड को चाटा, तो केक चाट कर मुझे बहुत मजा आया. फिर चुत चाटी और मम्मों से पूरा केक चाट कर साफ़ कर दिया.

इसके बाद मौसी ने मेरे लंड में केक लगाया और लंड चाटने लगीं.
केक के साथ मेरा एक बार फिर से माल निकल गया और मौसी के मुँह में निकल गया.

फिर हम दोनों ने पानी पिया और हॉल में आ गए.

सोफे पर मौसा सोए हुए थे. उनके एक साइड में मौसी लेट गईं और मैं मौसी के ऊपर लेट गया.

फिर कुछ देर बाद हम लोगों का बाथरूम में सेक्स करने का प्लान बना.

हम तीनों बाथरूम में चले गए और शॉवर खोलकर गीले होने लगे.

मौसी खड़ी हुईं तो फिर से मौसा ने उनकी चूत में लंड पेल दिया.
मैं मौसी की चुत में उंगली करने लगा.
मौसी की चूत में लंड और उंगली एक साथ चलने लगे थे.

मौसा बोले- राजा, तू अपनी मौसी की गांड में अपने लंड को रगड़ कर पेल दे.
मैंने मौसी की गांड में लंड पेल दिया.

एक बार फिर से मौसी की सैंडविच चुदाई होने लगी.

कुछ दस मिनट बाद हम दोनों मर्दों ने मौसी के मुँह में एक साथ लंड डाल दिए और मौसी ने हम दोनों के लंड को चूस कर रस पी लिया.

चुदाई के बाद हम तीनों मस्ती भरी बातें करने लगे.

मौसी मौसा कहने लगे- इसके पहले हम दोनों को इतना मज़ा कभी नहीं आया था, जितना आज आया.

अब मौसा जी ने मौसी से कहा- कुछ पिलाओ यार, बड़ी थकान हो रही है.
मौसी जी व्हिस्की की बोतल ले आईं और हम तीनों ने दो दो पैग लेकर फिर से चुदाई का मन बना लिया.

इस बार मैंने अकेले ही मौसी की गांड में लंड डाला और उनकी गांड मारने लगा.

फिर मौसी ने कहा- राजा, तुम मेरी चूत में लंड डालो और पीछे से तेरे मौसा मेरी गांड में लंड पेल कर मुझे चोदें.

मैं मान गया.
मुझे उन दोनों की स्कीम समझ नहीं आ सकी थी. मैं मौसी की चूत में लंड डालकर उन्हें चोद रहा था.

तभी मौसा जी अपना लंड मेरी गांड में पेल दिया.
मेरी जोर से आंह निकल गई मगर उन दोनों ने मुझे पकड़ रखा था तो मैं कुछ नहीं कर सका.

कुछ देर बाद मुझे अपने लंड से मौसी की चूत की चुदाई का मजा मिलने लगा और मेरी गांड को मौसा जी के लंड का मजा आने लगा.

इस तरह से हम तीनों ने एक दूसरे की गांड मारी और सो गए.

सुबह में मौसा जी अपनी जॉब पर चले गए और मौसी घर के कामों में लग गईं.

मैं अभी भी बेडरूम के अन्दर नंगा सोया पड़ा था. मैं सोकर उठा तो बाहर आ गया.
मैंने देखा कि मौसी किचन में थीं. मैंने उन्हें गुड मॉर्निंग बोला.

मौसी ने गुड मॉर्निंग के साथ प्यारी सी स्माइल दी और बोलीं- उठ गया मेरा राजा.
मैं पीछे से मौसी की गांड पर हाथ फेरते हुए उनसे चिपक गया और अपनी मौसी को पीछे से हग करके बोला- हां मेरी प्यारी मौसी.

मैंने अपने लंड को उनकी गांड में रगड़ कर पीछे से उनके गाल पर किस किया.

मेरी मौसी केवल गाउन में थीं और मेरे लिए नाश्ता बना रही थीं.

मैंने पूछा- मौसा जी कहां हैं?
तो वो बोलीं- ड्यूटी पर गए हैं, दो बजे तक आएंगे.

मैंने कहा- तब तक हम दोनों ही मस्ती करते हैं.
वो हंस दीं.

फिर मैंने मौसी के गाउन नीचे से उठाया और देखा तो मौसी ने वी-शेप वाली चड्डी पहनी हुई थी.

मैंने पीछे से मौसी की चड्डी के ऊपर से गांड चाटनी शुरू की.

तो मौसी बोलीं- पहले फ्रेश तो हो जा … जा, जाकर नहा ले.
मैंने बोला- मेरी जान आज तो मैं आपके साथ ही नहाऊंगा.

मैंने मौसी जी का गाउन उतार दिया.
मौसी ने ब्रा नहीं पहनी थी. अब मौसी चड्डी में रह गई थीं.

मैंने मौसी जी की चड्डी भी उतार दी.
अब मौसी जी नंगी ही रह कर मेरे लिए नाश्ता बना रही थीं.

मैंने भी अपने बॉक्सर को उतारा और मौसी के साथ मस्ती करने लगा.

कुछ देर में नाश्ता रेडी हो गया तो मैंने उन्हें गोदी में उठाया और बाथरूम में ले गया.
फिर शॉवर के नीचे खड़ी करके मैं बैठ गया और उनकी एक टांग को अपने कंधे पर रख कर उनकी चुत को चाटना शुरू कर दिया.

कुछ मिनट तक चूत चाटने के बाद मौसी का पानी निकलने लगा तो मैंने खड़े होकर फव्वारे के नीचे ही उनकी चुत में लंड पेल दिया.

मैंने दस मिनट तक मौसी को हचक कर चोदा और उनकी चूत में लंड का पानी निकाल दिया.
मौसी मस्त हो गई थीं.

उसके बाद से हम तीनों रोज रात को थ्री-सम चुदाई का मजा लेने लगे.

दोस्तो, आपको ये मौसी की चूत की चुदाई की कहानी कैसी लगी. प्लीज़ मेल से ज़रूर बताएं.

Posted in Family Sex Stories

Tags - free sex story hindigand ki chudaigaram kahanigay sex storieshot girlkamvasnamausi ki chudaiporn story in hindiuncle sex storytrishakar madhu viral video sexहिंदी चुदाई कहानी