रात की ट्रेन में मिली लेडी की चुदाई – Maa Beta Sex Stories

विडो आंट सेक्स कहानी ट्रेन में मिली एक आंटी की चूत और गांड चुदाई की है. वो मेरे साथ दो बर्थ वाले कूपे में थी. ये सब हुआ कैसे? आप खुद पढ़ कर मजा लें.

नमस्कार दोस्तो, मैं आपका राज शर्मा लेकर आया हूं अपनी एक और आंट सेक्स कहानी … अपनी आपबीती!

मेरी पिछली कहानी थी: अकेली नयी नवेली भाभी की चुदाई

एक बार मैं दिल्ली से रात की ट्रेन से जा रहा था।
मेरे साथ मेरा एक दोस्त था. हमने फर्स्ट क्लास एसी का टिकट करवाया था। हमें दो बर्थ वाला कूपे मिला था.

हम अपनी सीट पर आराम से लेट गये थे. रात के 10:30 बज चुके थे. मेरा दोस्त थका हुआ था और उसने काफी विह्स्की पी रखी थी तो वो एकदम सो गया था.

तभी एक 40-42 साल की महिला आई और बोली- बेटा, मुझे मुम्बई जाना है लेकिन मेरी टिकट कंफर्म नहीं हो रही है।

दिखने में औरत ठीक ठाक लग रही थी, उसने सफ़ेद रंग की साड़ी पहनी हुई थी।
मैंने उनको बोला- ठीक है, आप मेरे साथ इस सीट पर बैठ जाइए.

रात के सफर में मैं हमेशा हाफ पैंट और टी-शर्ट पहनता हूं।
अभी तक मेरे दिमाग में उस आंटी के लिए कोई गलत ख्याल नहीं आया था।

लाइट बंद करके में सीट पर लेट गया और वो आंटी सीट पर बैठ गई।

एसी कोच में सीट बड़ी होती है और केबिन के कारण कोई डिस्टर्ब नहीं करता।

थोड़ी देर बाद टीसी आया.
मैंने और आंटी ने उससे बात की, फिर वो चला गया.
मतलब अब सुबह तक कोई नहीं आने वाला था।

थोड़ी देर बाद आंटी ने कहा- क्या मैं लेट सकती हूं?
मैंने कहा- अगर आपको साथ लेटने में कोई दिक्कत न हो तो लेट जाओ.

वो कुछ नहीं बोली और चुपचाप मेरी तरफ अपनी गांड करके लेट गई।

एक घंटे बाद अचानक से मेरी नींद खुली मेरे लौड़े पर आंटी की गांड का दबाव बढ़ने लगा था।

अब धीरे धीरे मेरे लौड़े ने हरकत शुरू कर दी और मेरे दिमाग में चुदाई का माहौल बनने लगा।

मैंने नींद का बहाना बनाकर अपना हाथ आंटी की चूचियों पर रख दिया और धीरे धीरे फेरने लगा।

आंटी की तरफ से कोई जवाब न आने से अब मेरी हिम्मत और बढ़ गई।

मैंने उसकी गान्ड को सहलाना शुरू कर दिया. धीरे धीरे मैंने उसकी साड़ी थोड़ी ऊपर कर दी और नंगी टांगों पर हाथ फेरने लगा.

अब मेरा लौड़ा पूरा खड़ा हो गया था लेकिन मैं अभी तक बहुत आराम से सब कर रहा था।

अब मैंने पीछे से साड़ी उठा दी.
आंटी ने अंदर पैंटी नहीं पहनी थी; बस पेटीकोट पहनी हुई थी. उसकी गान्ड गोल चिकनी साफ दिख रही थी।

तभी आंटी ने एकदम से करबट बदल ली और उसकी साड़ी खुलकर नीचे गिर गई अब आंटी पेटीकोट ब्लाउज में लेटी हुई थी।

अब मैंने धीरे से पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया था और धीरे धीरे ब्लाउज़ के ऊपर से चूचियों को सहलाने लगा।

कुछ ही पल बाद मैंने आंटी के ब्लाऊज़ के बटन खोल कर चूचियों को आजाद कर दिया।

अब मैंने अपना लन्ड बाहर निकाल लिया और आंटी के हाथ में पकड़ा दिया।
आंटी की बड़ी बड़ी भरी चूचियां देखकर मेरा लन्ड बड़ा होने लगा।

अब मैंने धीरे से पेटीकोट उतार दिया और उसकी गान्ड को सहलाना शुरू कर दिया और धीरे धीरे चूचियों से खेलने लगा।

तभी आंटी नींद में ही मुझसे लिपट गई अब दोनों के नंगें जिस्म गरम होने लगे थे।

मेरा लन्ड चूत को महसूस कर रहा था और मेरी छाती से आंटी की बड़ी बड़ी चूचियां चिपक गई थी.

तब मैंने आंटी की चूत में उंगली रगड़ना शुरू कर दिया.
आंटी नींद में ही सिसकारियां निकालने लगी.
मैं रुक गया।

थोड़ी देर बाद मैंने फिर से हरकत शुरू कर दी अब मेरे लौड़े पर आंटी के हाथ सख्त होने लगे थे।
मैंने उंगली चूत में घुसा दी और अंदर-बाहर करने लगा.

अब आंटी की नींद खुल गई।
हम दोनों बिल्कुल नंगे थे और आंटी के हाथ में मेरा लौड़ा था।

वो बोली- ये सब क्या है?
मैंने कहा- आंटी, बस जो हो रहा है … होने दो!

और मैं उसकी दोनों चूचियों को चूसने लगा, साथ ही चूत में उंगली अंदर बाहर करने लगा.

आंटी ने मेरे दोस्त की तरफ इशारा किया तो मैंने बताया कि वो मेरा दोस्त है, दारू पीकर सो रहा है. वो नहीं जागेगा.

अब आंटी भी गर्म हो गई थी, उसने भी मेरे लंड को सहलाना चालू कर दिया।
आंटी ने बताया कि उसने 7 साल से लंड नहीं लिया है।

उसने अपना नाम हेलीमा बताया।

मैंने अपना नाम राज शर्मा बताया और देर न करते हुए 69 की पोजीशन ले ली.

अब आंटी पूरी मस्ती से लंड चूसने लगी थी और अपनी चूत को मेरे मुंह में दबाए जा रही थी।

5 मिनट में आंटी की चूत ने नमकीन पानी छोड़ दिया जिसे मैं चप चप करके चाट गया.

अब मैंने आंटी को लिटा दिया और कंडोम उसके हाथ में पकड़ा दिया.

आंटी ने लंड पर कंडोम लगाया और अपनी चूत में लन्ड सेट करके बोली- राज अब अंदर डालो!

मैंने जोर से धक्का लगाया तो मेरा आधा लंड अंदर चला गया.
ऊईई आहह सीईई ऊईई ऊईई करके आंटी मचलने लगी.

मैंने उसके होंठों पर होंठ रख दिए और लंड को रोक कर चूमने लगा।

थोड़ी देर बाद जब आंटी शांत हो गई तो मैंने एक झटका दिया. इस झटके में मेरा लंड पूरा आंटी के अन्दर चला गया.

ऊईई ऊईई आहह सीईई करके आंटी फिर से मचलने लगी।

अब मैं उसके दोनों संतरों को मसलने लगा और धीरे धीरे लंड चलाने लगा।

कुछ देर बाद आंटी भी अपनी क़मर चलाने लगी तो मैं समझ गया कि अब आंटी का दर्द कम हो गया, अब आंटी को मजा आ रहा है.
और तब मैंने अपने लन्ड को दूसरे गियर में डाल दिया।

आंटी सिसकारियाँ भरने लगी.
मैंने तीसरे गियर में आंटी की चुदाई शुरू कर दी और लंड तेज तेज अंदर-बाहर करने लगा।
अब दोनों बराबर से धक्का लगाने लगे थे।

आंटी बहुत खुश थी और आहहह आह हहहह करके अपनी टाइट चूत में लन्ड ले रही थी।

थोड़ी देर बाद मैंने आंटी को घोड़ी बनाकर पीछे से चोदना शुरू किया.
अब थप थप थप थप की आवाज़ तेज होने लगी,
आंटी अपनी गांड तेज़ी से आगे पीछे करके लंड को लेने लगी थी।

अब हम दोनों एक दूसरे को टक्कर दे रहे थे और थप थप थप थप थप की आवाज़ पूरे केबिन में गूंजने लगी थी।

आंटी ने अपनी चूत टाइट कर ली. लंड के झटकों से चूत का झरना बहने लगा और गीला लंड सटासट सटासट फच्च थपथप फच्च फच्च करके अंदर बाहर होने लगा।

अब लंड की रफ्तार अपने चरम पर पहुंच गई और बच्चादानी तक जाने लगा।

मैंने आंटी को लिटा दिया और चोदने लगा.
अब मैं जोर जोर से लंड अंदर बाहर करने लगा; उसकी आह उह से मेरे लौड़े का जोश बढ़ता जा रहा था।

हाल यह था कि ट्रेन से तेज़ मेरा लन्ड आंटी की चूत में दौड़ रहा था।

एक बार फिर आंटी का शरीर मेरे लौड़े को कसने लगा, अब लंड की रफ्तार अचानक से और तेज़ हो गई।

थोड़ी देर बाद हम दोनों ने अपना अपना कामरस एक साथ छोड़ दिया.

आंटी की चूत में बाढ़ आ गई और रस बहकर जांघों पर आ गया.
हम दोनों पसीने से लथपथ एक-दूसरे से चिपक कर ऐसे ही लेटे हुए थे।

थोड़ी देर बाद मैंने आंटी के मुंह में लंड डाल दिया,
वो गपागप गपागप चूसने लगी और लंड को एकदम साफ कर दिया।

थोड़ी देर बाद फिर हम दोनों बातें करने लगे.
उसने बताया कि उसके पति की मौत के बाद आज पहली बार उसकी चूत ने लंड का स्वाद चखा है।

उसकी चूत फूल गई थी क्योंकि 7 साल बाद इतनी बुरी तरह से चुदाई हुई थी।

हम दोनों अब भी नंगे लेटे हुए थे.

धीरे धीरे मेरे लौड़े ने अपना आकार बढ़ा लिया था.

मैंने आंटी की चूचियों को मसलना शुरू कर दिया और किस करने लगे.
आंटी भी मेरे होंठों को चूसने लगी.
हम दोनों एक-दूसरे को पागलों की तरह चूसने लगे।

जल्दी ही आंटी ने लंड को मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया.
अब वो खुलकर गपागप गपागप लंड चूसने लगी थी।

उसकी चूचियां मसलकर मैंने लाल कर दी।

अब मेरी नज़र आंटी की गांड पर थी.

आंटी मेरे इरादे समझ गई और बोली- राज नहीं नहीं!
मैंने कहा- क्या नहीं?
वो बोली- तुम तो जानते ही हो!

मैंने अनजान बनते हुए पूछा- क्या? मैंने तो आपसे कुछ कहा नहीं … कुछ मांगा नहीं!
वो बोली- राज, तुम्हारे इरादे मैं समझ गई हूँ लेकिन ऐसा नहीं हो सकता!

मैंने कहा- ठीक है तो रहने दो.
और मैं पैंट पहनने लगा।

आंटी ने हाथ पकड़ लिया और बोली- अब क्या हुआ?
मैंने कहा- जब आपको पसंद नहीं तो जाने दो।

आंटी ने पैंट छुड़ाकर फैंक दिया और बोली- किसने बोला पसंद नहीं है। आज 7 साल बाद ये सब मेरे साथ हुआ … मुझे मजा आया तो मैं तुम्हें निराश नहीं करुंगी। लेकिन तुम पूरा नहीं डालोगे बोलो!
मैंने कहा- ठीक है.

अब मैंने आंटी को घोड़ी बनाया और गांड के सुराख पर थूक लगा कर उंगली डालने लगा वो आहह ऊईई करने लगी.

मैंने धीरे धीरे उंगली अंदर बाहर करना शुरू किया, वो ऊईई ऊईई आहहह आहहह करने लगी.

अब मैंने दो उंगलियां आंटी की गांड में डाल दी और अंदर-बाहर करने लगा.
अब गांड का सुराख खुलने लगा।

मैंने लंड पर थूक लगाया और गांड में थूक लगाया और लंड को घुसाने लगा।

लंड थोड़ा सा ही अंदर गया था और आंटी चिल्लाने लगी.
तो मैंने आंटी की गांड से लंड निकाल लिया और बोला- कोई सुन लेगा.

मैंने उनसे पूछा- कोई क्रीम वगैरा है क्या आपके पास?
उसके पास कोल्ड क्रीम थी. मैंने वो लेकर आंटी की गांड पर लगाई और थोड़ी अपने लंड पर भी.

अब फिर से एक बार मैंने अपना लंड आंटी की गांड में घुसाया, जोर का धक्का लगाया.
अब लंड आसानी से अंदर चला गया. मेरा आधा लंड अंदर चला गया.

लेकिन आंटी चिल्लाने लगी- ऊईई ऊईई मर गई बचाओ बचाओ!
उसे काफी दर्द हुआ था.

मैंने एक हाथ से आंटी का मुंह बंद कर दिया और लंड की गति को रोक दिया.
धीरे धीरे मैं आंटी चूचियों को सहलाने लगा.

जब आंटी का दर्द कम हुआ तो मैं लंड गांड में आगे पीछे करके चोदने लगा.
अब आंटी भी अपनी गांड आगे पीछे करने लगी.

मैंने लंड निकाल लिया और दोबारा घुसा दिया.

थोड़ी देर बाद मैंने जोर से धक्का लगाया तो मेरा पूरा लंड आंटी की गांड में समा गया.
आंटी की चीख और आंसू एक साथ निकल पड़े।

मैंने धीरे धीरे आंटी की गांड चुदाई शुरू कर दी और उनकी पीठ चूमने लगा।

कुछ देर में आंटी का दर्द कम हो गया था.
अब लंड ने अपनी रफ़्तार पकड़ ली और गांड से थप थप थप की आवाज आने लगी।

आंटी ने बताया कि आज वो बहुत खुश हैं. आज 7 साल बाद उसकी चूत और गान्ड को लंड का सुख मिला है।

अब मैं और जोश में आ गया और तेज़ तेज़ लंड अंदर बाहर करने लगा. अब गांड का सुराख भी खुल चुका था।

10 मिनट की ताबड़तोड़ चुदाई के बाद लंड ने वीर्य छोड़ दिया और दोनों एक-दूसरे से लिपटकर किस करने लगे और वैसे ही नंगे जिस्म सो गए।

सुबह जब नींद खुली तो हम दोनों ने कपड़े पहने और एक-दूसरे को चूमने लगे।

कोई स्टेशन आने तक आंटी ने मेरे लौड़े को चूसा था।

रात भर की चुदाई में सफर का पता नहीं चला।
एक अजनबी आंटी को चोदने में बहुत मजा आया।

आपको यह आंट सेक्स कहानी पसंद आयी या नहीं … मुझे बतायें.

Posted in XXX Kahani

Tags - bhabhi ki chudai kahanigand ki chudaihindi antarwasnahindi sex kahanikamvasnameri chudai kahanioral sexpublic sexx stories in hindisex stories in hindi languagesexy khanya