विधवा मौसी ने अपनी प्यासी चुत में मेरा लंड लिया – Hotsex

हॉट मौसी की चुदाई हिंदी में पढ़ें कि कैसे मैं मौसी की बेटी को चोद कर सो गया था. तभी मैंने देखा कि मेरी विधवा मौसी ने मेरा लंड पकड़ रखा है. फिर क्या हुआ?

दोस्तो, मेरा नाम रजत है. मैं यूपी के वाराणसी जिले का रहने वाला हूं. मेरी लम्बाई 5 फुट 3 इंच है.
मैं दिखने में काफी स्मार्ट हूं और रोजाना कसरत करता हूं. मेरी बॉडी अच्छी खासी पहलवानों जैसी है.

मेरा खुद का व्यापार है, मेरा काम ज्यादा बड़ा नहीं है. मैं छोटे स्तर पर ही अपना व्यापार करता हूँ.

मैंने अन्तर्वासना पर बहुत सी सेक्स कहानियां पढ़ी हैं. मैं इस साइट का नियमित पाठक हूं. आज मैंने भी सोचा कि मैं अपने साथ घटित एक सेक्स कहानी आप लोगों के साथ साझा करूं.

ये हॉट मौसी की चुदाई हिंदी कहानी आप लोगों को जैसी भी लगे, कृपया मुझे ईमेल कर जरूर बताएं. आपके मेल करने से मुझे प्रोत्साहन मिलेगा.

मेरी मौसी का नाम रागिनी है, ये बदला हुआ नाम है.
वो विधवा हैं, उनके पति का देहांत हुए 5 साल से ज्यादा हो गए हैं.

मौसा के जाने के बाद से वो अकेली ही तीन बच्चों के साथ रहती हैं, जिसमें दो लड़का एक लड़की हैं. उनमें से एक लड़के की शादी हो गई है … उसका कमरा अलग है.

ये घटना मेरे साथ अगस्त माह में घटित हुई थी.
मैं उस दिन मौसी के घर गया था. उस समय रात के करीब 8 बज रहे थे.

उनके घर पर मैं एक घंटे से था. जब मैं वहां से निकलने वाला था, तभी अचानक से मौसम खराब होने लगा और बारिश होने लगी, जिससे मैं थोड़ी देर के लिए वहीं रुक गया.
लेकिन बारिश और तेज हो गई.

फिर जब बारिश रुकी तो रात के 10 बज चुके थे और मुझे कोई जाने नहीं दे रहा था इसलिए मैं उस रात वहीं रुक गया और खाना खाकर सोने चला गया.

इधर मैं आपको बता दूँ कि मेरी मौसी का लड़का जिस जॉब में था, उस समय उसकी नाईट ड्यूटी चल रही थी.
इसलिए वो अपनी नौकरी पर चला गया.

उसके रूम में केवल मैं, मौसी और उनकी लड़की थी. हम तीनों सो गए.

मैं उन दोनों के बीच में सोया था. मेरे बाजू में मौसी की जो लड़की लेटी थी उसको मैं पहले ही चोद चुका हूँ.
मौसी की बेटी की गर्म चुदाई कैसे हुई थी, वो इस कहानी में पढ़ें.

उस वक्त मेरी मौसी की लड़की मेरे बगल में लेटी थी तो मेरा मन उसको चोदने को कर रहा था.

थोड़ी देर बाद जब मुझे लगा कि मौसी सो गई हैं तब मैंने अपना एक हाथ अपनी मौसी की लड़की की चुचियों के ऊपर रख दिया और हल्के हल्के से उसके मम्मों को दबाने लगा.

इस वजह से उसकी नींद खुल गई और उसको मज़ा आने लगा.
उसने भी अपने एक हाथ से मेरे लंड को पकड़ लिया और हम दोनों एक-दूसरे का ऐसे ही मजा देने लगे.

इस बीच मेरा पानी निकलने वाला था, तो मैंने उसका हाथ हटा दिया.

वो मेरे कान में कहने लगी- आग लगा दी है, अब बिना बुझवाए मुझे नींद नहीं आएगी.
मैंने उससे कहा- मुझे कोई दिक्कत नहीं है. यदि तुम कहो तो मैं अभी तुम्हारे ऊपर चढ़ जाऊं!

उसने कहा- यार, बगल में मम्मी सो रही हैं, इधर कैसे चुदाई हो पाएगी?
मैंने कहा- तो एक काम करो … मैं तुम्हारी चुत चूस लेता हूँ और तुम मेरे लंड को चूस लो. कल सुबह तुम्हें चोद कर ही जाऊंगा.

वो कुछ नहीं बोली और चादर में ही मेरे लौड़े के करीब अपना मुँह ले आई और लंड चूसने लगी.

मैं मौसी की तरफ देखता हुआ उससे अपना लौड़ा चुसवाने लगा.
आज वो बड़ी मस्ती से लंड चूस रही थी.

जब उसे पहली बार चोदा था, तब भी उसने लंड को इतने शानदार तरीके से नहीं चूसा था.

फिर मैं उसके मुँह में झड़ गया और उसने मेरे लंड की सारी क्रीम खा ली.

वो लंड साफ़ करके वापस सीधी लेट गई और मुझे इशारा करने लगी कि अब तुम चुत चूसो.
मैंने कहा- मैं नीचे जाऊंगा, तो मौसी जाग सकती हैं. तुम मेरे मुँह की तरफ अपनी चुत करके लेट जाओ.

वो धीरे से उठी और मेरे मुँह की तरफ चुत करके लेट गई.
मैंने जरा सा सर नीचे करके उसकी चुत को चूसना शुरू कर दिया.

इस बार वो अपनी मम्मी की तरफ आंखें लगाई हुई थी कि जैसे ही मौसी जागें, वो मुझसे अलग हो जाए.

कुछ मिनट बाद ही उसकी चुत ने रस छोड़ दिया और मैंने उसकी चुत का पानी चाट लिया.

अब हम दोनों एक एक बार झड़ चुके थे.
कुछ देर तक वो मेरी बांहों में सिमटी लेटी रही.

मगर लंड चुत में आग अभी भी जारी थी और बिना चुदाई के शान्ति मिलने वाली नहीं थी.

कुछ देर के बाद मौसी उठ गईं और बाथरूम चली गईं.

उनकी बेटी ने मौसी को जाते देखा तो उसने पूछ लिया- क्या हुआ मम्मी … आप किधर जा रही हैं?
वो बोलीं- कुछ नहीं जरा प्रेशर बन गया है. मैं फ्रेश होकर आती हूँ.

मौसी के टॉयलेट जाने की बात सुनकर उनकी लड़की बोली- अब ये दस पन्द्रह मिनट के लिए गईं.
मैंने कहा- तो आ जाओ मेरे लंड की सवारी गाँठ लो.

वो बोली- नहीं तुम मेरे ऊपर चढ़ जाओ … मुझे तुमसे पिस कर चुदने का मन हो रहा है.
मैंने उस समय का फायदा उठाया.

जल्दी से उठ कर मैंने अपनी मौसी की लड़की की सलवार का नाड़ा खोल दिया और उसकी चड्डी को नीचे सरका दिया.

वो भी जल्दी से अपनी चुत खोल कर लंड लेने को मचल उठी.

मैं उसके ऊपर चढ़ गया और अपने लंड को उसकी चुत में उतार दिया.
लंड चुत में जैसे ही घुसा, मैं जल्दी-जल्दी उसकी चुत चुदाई करने लगा.

करीब दस मिनट में मेरा पानी निकल गया और मैं उसकी चुत में झड़ कर अपनी जगह पर आ गया.
मैं सोने का नाटक करने लगा कि तभी मौसी बाथरूम से वापस आ गईं और मेरे बगल में सो गईं.

थोड़ी देर बाद मुझे नींद आ गई और मैं सो गया लेकिन कुछ समय बाद मुझे लगा कि कोई मेरे लंड को पकड़े हुए है और सहला रहा है.

मुझे मज़ा आ रहा था, इसलिए मैं कुछ नहीं बोला औऱ मज़ा लेता रहा.

इसी बीच मौसी की चूड़ी बजने की आवाज आई.
तो मुझे लगा कि मेरे लंड से मौसी मज़ा ले रही हैं.

मैंने धीरे से थोड़ी सी आंख खोल कर देखा तो वो मौसी ही थीं और मेरे लौड़े को हिला रही थीं.
मैं कुछ नहीं बोला और ऐेसे ही मज़ा लेता रहा.

थोड़ी देर बाद जब मुझसे बर्दाश्त नहीं हुआ तो मैंने मौसी का हाथ पकड़ लिया.
मौसी एकदम से डर गईं.

मैं उनसे बोला- आप मेरे साथ ये क्या कर रही हैं?
वो बोलीं- चुप रहो.

वो मुझसे कहने लगीं- जो तुमने मेरी लड़की के साथ किया है, वो मुझको पता है. अब अगर ज्यादा बोलोगे तो कल वो सब मैं तुम्हारे घर बोल दूंगी.
ये बात सुन कर मैं डर गया.

मैं उनसे बोलने लगा- आप प्लीज मेरे घर मत बोलना. आपको जो भी करना है, कर लीजिए.
वो हंस कर बोलीं- जो बोलूँगी, करोगे?
मैंने हां में सिर हिला दिया.

मेरे इतना बोलते ही मौसी ने मेरे सर को पकड़ा और एक जोर का किस कर लिया.
उन्हें शायद अपनी लड़की के उठ जाने की चिंता भी नहीं थी.

वो अपना ब्लाउज खोल कर मुझसे बोलने लगीं कि चलो अब तुम मेरे मम्मों को चूसो.

मुझे तो वैसे ही भरे हुए मम्मों को चूसना बहुत पसंद है.
मैं इस मौके को कहां छोड़ने वाला था.

मैंने बिना कोई देर किए उनके एक निप्पल को अपने होंठों से दबा लिया और जोर जोर से चूसने लगा.

मैं उनके दोनों मम्मों को एक एक करके दबा दबा कर चूस रहा था.

दोस्तो, मैंने अपनी मौसी के दोनों निप्पलों को बारी बारी से बहुत देर तक चूसा और मौसी मेरे लंड से खेलती रहीं.
वो मेरे लौड़े को चड्डी के ऊपर से ही हल्का हल्का दबा रही थीं.

फिर मैंने उनका एक हाथ अपने चड्डी के अन्दर डाल दिया.
मौसी का हाथ लंड को लगा, तो मुझे तरन्नुम आ गई.
मैं आपको बता नहीं सकता कि मुझे उस समय कितना मजा मिल रहा था.

तभी मौसी धीरे से बोलीं- पलंग पर से नीचे ज़मीन पर चलो.

मैं उठा और पहले बाथरूम में चला गया.

जब मैं बाथरूम से वापस आया तो देखा कि मौसी ज़मीन में लेटी हुई थीं. उन्होंने अपने ब्लाउज के हुक लगा लिए थे.
मैं भी वहीं लेट गया.

मौसी बोलीं- अब जल्दी से लंड अन्दर डालो. मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा है.

मैं उनकी बात को सुनकर अनसुनी कर दी क्योंकि मैं तो उनको और तड़पाना चाहता था.

मैंने मौसी के बाजू में लेट कर उनके ब्लाउज का हुक फिर से खोल दिया.
उन्होंने अन्दर की ब्रा उतार दी थी जिससे उनके दोनों दूध आजाद हो गए.

मैंने उनकी साड़ी को ऊपर करके उनकी चुत को देखा.

आह यार … मौसी की चुत को देख कर तो मन कर रहा था कि उनको 24 घंटे चोदता रहूँ.
मौसी की चुत को देख कर लग रहा था कि उन्होंने एकाध दिन पहले ही शेविंग की थी.

उनकी चिकनी चुत को देख कर मुझसे रहा नहीं गया और मैं तुरंत ही उनकी चुत को चूसने लगा.

मेरे थोड़ा सा ही चूसने पर मौसी मेरे सिर को अपनी चुत पर दबाने लगीं.
शायद वे चाह रही थीं कि मैं उनकी चुत को चूसता ही रहूँ.

थोड़ी ही देर में उनका पानी निकल गया.
थोड़ा सा पानी मेरे मुँह में चला गया … लेकिन बाकी सारा पानी निकलते समय, मैंने उनकी साड़ी को चुत पर लगा दिया था, जिससे चुत का सारा पानी उनकी साड़ी पर लग गया.

इतना सब करने के बाद अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था; मैंने अपना लंड निकाला और सीधा उनकी चुत पर टिका दिया.

मैं मेरी हॉट मौसी के ऊपर चढ़ गया और उनके होंठों को अपने होंठों से दबा कर चूसने लगा. मैं धीरे-धीरे अपने लंड को उनकी चुत में पेलने लगा.

पांच साल बाद मौसी अपनी चुत में लंड ले रही थीं तो उन्हें दर्द हो रहा था.

पहले तो वो मुझे पीछे हटा रही थीं … लेकिन कुछ मिनट बाद मौसी सामान्य हो गईं और लंड का मजा लेने लगीं.

अब मैं भी कभी मौसी के मम्मों को चूसता, तो कभी जोर से दबा देता, तो कभी उनके निप्पल को काट लेता, तो कभी उनके होंठों को किस करने लगता.

कुछ ही देर में हम दोनों के बीच चुदाई का घमासान शुरू हो गया.

मौसी भी काफी समय बाद चुदवा रही थीं तो उनको बेहद मजा आ रहा था.

ऐसे ही करते करते मैंने अपनी मौसी को करीब बीस मिनट तक चोदा.
इस बीच मेरी मौसी की लड़की की एक बार नींद भी खुल गई थी लेकिन उसने अपनी मम्मी की चुदाई पर ध्यान नहीं दिया.

वो चुदाई देख कर दूसरी तरफ करवट लेकर सो गई.
मैं समझ गया कि इसको अपनी मां चुदने का कोई गम नहीं है.

मौसी को चोदने के बाद मैं जमीन में से धीरे से उठ कर पलंग पर चला गया और मौसी बाथरूम में चली गईं.

वो बाथरूम में से जब तक आईं, तब तक उनकी लड़की ने मेरी तरफ देखा और बोली- बड़े मादरचोद हो. तुमने मेरी मम्मी चोद दी!
मैं हंस दिया और कहा- मौसी ने देख लिया था कि मैंने तुम्हें चोद दिया है.

ये सुनकर वो पहले तो सकपका गई मगर मेरे समझाने पर खुश हो गई.

मैंने उससे कहा- डार्लिंग, अब तुम दोनों मालूम है कि मेरे लंड का स्वाद कैसा है. कुछ दिन रुक जाओ, दोनों को एक साथ एक ही बिस्तर पर चोदूंगा.

वो मेरे सीने से लग गई और मैं उसे अपने सीने से चिपका कर बेख़ौफ़ सो गया.
अब मुझे मौसी की झांट चिंता नहीं थी.

कुछ देर बाद मौसी आईं तो वो भी मुझसे चिपक कर सो गईं.

इस समय मेरे साथ मां बेटी दोनों एक साथ चिपक कर सो रही थीं और मैं उन दोनों को एक साथ चोदने का प्लान बना रहा था.

दोस्तो, आपको मेरी हॉट मौसी की चुदाई हिंदी कहानी कैसी लगी. आप मुझे ईमेल करके जरूर बताएं.
मेरी ईमेल आईडी है

Posted in अन्तर्वासना

Tags - antarwashnabhai behan ki chudaibhuaa ki chudaidesi hindi sex kahanidesi ladkimastram sex storymausi ki chudaimeri chudayisex antarvasnaxxx khaniya hindi me