सगी बहन को कॉलेज में चुदते देखा तो … – Jabardasti Chudai Kahani

भाई ने बहन की गांड मारी. भाई ने अपनी बहन को कॉलेज में अपने यार से चुदाई करवाते देखा तो उसका मन भी बहन की चुदाई का हो गया. उसके बाद क्या हुआ?

दोस्तो, आज मैं भाई ने बहन की गांड मारी की घटना को सेक्स कहानी के रूप में लिख रहा हूं.

पहले मैं आपको अपनी बहन के बारे में बता देता हूँ.

मेरी बहन का नाम पूजा है. उसका फिगर 28-26-30 का है. वो दिखने में बहुत ही सेक्सी है. उसकी उठी हुई गांड का मैं बहुत बड़ा दीवाना हूँ.

ये उन दिनों की बात है, जब मेरी बहन कॉलेज में बी कॉम के पहले साल में पढ़ रही थी.

मैं उस दिन अपनी बहन के पास कॉपी लेने गया था, लेकिन वो अपनी क्लास में नहीं थी.

मैंने उसकी फ्रेंड्स से पूछा, तो उसकी एक सहेली ने मुँह बनाते हुए कहा कि हम लोगों को नहीं मालूम कि तेरी बहन कहां गई है.

मैंने उस दिन अपनी बहन को पूरे कॉलेज में ढूंढ लिया लेकिन वो नहीं मिली.

जब मैं वापस उसकी क्लास में गया, तो उसकी एक फ्रेंड प्रिया मेरे पास आई और मुझसे बोली- तेरी बहन कहां है … कुछ पता चला … तुमको कहीं मिली क्या?
मैंने कहा- नहीं मिली.

उसने कहा- मैं जानती हूं कि तुम्हारी बहन कहां गई है.
मैंने कहा- बताओ कहां है?
उसने कहा- वो अपने ब्वॉयफ्रेंड के साथ है.

मैं उसकी बात सुनकर थोड़ा हैरान हुआ कि मेरी बहन का कोई ब्वॉयफ्रेंड भी है.

मेरे पूछने पर प्रिया ने मुझे बताया था कि तेरी बहन और पंकज एक ही क्लास में पढ़ते हैं.

मैंने उससे कहा- क्या तुम मुझे उसके पास ले जा सकती हो?
तो वो मुझे कॉलेज के स्टोर रूम में लेकर गई.

मैंने वहां का नज़ारा देखा, तो मेरी आंखें फटी की फटी रह गईं.

मेरी बहन अपने ब्वॉयफ्रेंड को किस कर रही थी. मैं और मेरी बहन की सहेली उस नजारे को देखने लगे.

कोई दस मिनट की किस के बाद मेरी बहन के ब्वॉयफ्रेंड ने उससे कहा- अब तुम एक बार मेरा लंड पकड़ो.
मेरी बहन ने उसका लंड पकड़ा और सहलाने लगी.

फिर मेरी बहन ने अपने ब्वॉयफ्रेंड से कहा- पंकज, अगर तुम बुरा ना मानो तो मैं तुम्हारा लंड मुँह में लेकर चूसना चाहती हूँ.
पंकज ने कहा- अरे तो चूसो न तुमको मना किसने किया है यार … ये लंड तुम्हारा ही तो है मेरी जान.

इसके बाद मेरी बहन ने जब पंकज का लंड अपने मुँह में डाल कर चूसने लगी.
तो मुझे अपने लंड में भी गर्मी महसूस होने लगी.

मुझे इस समय सामने सिर्फ एक लौंडिया एक लौंडे का लंड चूसती हुई दिखाई दे रही थी.
मैं अपनी बहन की इस मस्त कारगुजारी को देखने में मस्त हो गया और अपने लंड को सहलाने लगा.

उस दौरान मुझे पता ही नहीं चला कि उसकी फ्रेंड प्रिया अपने मोबाइल में ये सीन रिकार्ड करने लगी थी.

सामने मेरी बहन पंकज का लंड मुँह लेकर चूस रही थी.

मेरी बहन ने 15 मिनट तक अपने ब्वॉयफ्रेंड पंकज का लंड चूसा.

इसके बाद पंकज ने मेरी बहन को बेंच पर लिटा दिया और उसको किस करते हुए उसके चूचे दबाने लगा.
वो कभी मेरी बहन की चूत में उंगली करने लगता तो कभी उसकी गांड में उंगली करता.

फिर पंकज मेरी बहन की चूत चाटने लगा और बहन कामुक सिसकारियां लेने लगी- आह आह ई उईई म्म उफ़ पकंज चाटो … और चाटो मेरी चूत … आह मजा आ रहा है.

ये सब देख कर मेरा लंड खड़ा होने लगा और मेरी बहन की सहेली प्रिया भी ये सब देख कर कामुक होने लगी.
हम दोनों सामने लाइव चल रही ब्लू फिल्म का मजा लेने लगे.

फिर पंकज ने मेरी बहन की चूत पर अपना लंड सैट किया और धक्का दे दिया.
उसका लंड मेरी बहन की चूत में समा गया.

ये मेरी बहन की पहली चुदाई थी, तो उसको दर्द होने लगा.
उससे ये दर्द सहन नहीं हुआ तो उसकी चीख निकल गई- आह मर गई पकंज आह बहुत दर्द हो रहा है … आह उई मां मर गई.

मेरी बहन को बहुत दर्द हो रहा था तो बहन ने बोला- आह पंकज जरा रुको, मुझे बहुत दर्द हो रहा है.
पंकज लंड चुत में फंसाए हुए रुक गया और मेरी बहन के दूध सहलाने लगा.

मेरी बहन ने उससे कहा- आह पंकज, मुझे बहुत दर्द हो रहा है … मुझे कुछ नहीं करना, बहुत दर्द हो रहा है, प्लीज़ लंड बाहर निकाल लो.
पंकज ने लंड चुत से निकाल लिया.

मेरी बहन की कुंवारी चुत की सील टूट चुकी थी. क्योंकि मेरी बहन की चूत से बहुत खून बह रहा था.

हम दोनों दम साधे इस चुदाई को देख रहे थे.

तभी मेरी बहन ने अपने बैग से रूमाल निकाला और अपनी चूत को पौंछते हुए नीचे रूमाल लगा दिया.
वो अपनी चूत को रूमाल से साफ करने लगी.

पंकज बोला- जानू, पहली बार में थोड़ा दर्द होता है. अभी तो तुमने कहा था कि मैं तुम्हारा लंड मुँह में ले सकती हूं, फिर चूत में लेने से क्या हो गया. प्लीज़ जानू एक बार और ट्राई करते हैं.
मेरी बहन ने साफ मना कर दिया.

पर पंकज मेरी बहन को चोदे बिना कहां मानने वाला था; फिर वो मेरी बहन को किस करने लगा और उसकी चूत पर लंड सैट करके अन्दर डाल दिया.

मेरी बहन दर्द के मारे छटपटा रही थी लेकिन पंकज नहीं रुका और वो मेरी बहन को धकापेल चोदने लगा.

कुछ मिनट की चुदाई के बाद मेरी बहन को भी मजा आने लगा.
अब मेरी बहन मादक सिसकारियां लेते हुए बोली- अहा अहा पंकज आह मजा आ रहा है … आह चोदो मुझे … और तेज चोदो आआह अपनी पूजा जानू की चूत फाड़ दो.

अब पंकज मेरी बहन को ताबड़तोड़ चोदे जा रहा था.
उसकी रफ़्तार और भी ज्यादा बढ़ गई थी. नीचे से मेरी बहन अपनी गांड उठा उठा कर चुदवा रही थी.
उन दोनों की लम्बी चुदाई के बाद वो दोनों अपने चरम पर आने लगे थे.

पंकज ने बोला- जानू, मेरी एक बात मानोगी?
पूजा बोली- तुम्हारे लिए तो अब जान भी हाजिर है … बोलो क्या बात है?
पंकज ने कहा- पूजा डार्लिंग, मैं तुम्हारी गांड का रस अपने लंड को चखाना चाहता हूँ … और मैं भी चखना चाहता हूं.

उसके मुँह से गांड मारने की बात सुनकर मेरी बहन ने पंकज को साफ बोल दिया- मैं गांड नहीं मारने दूंगी.

वो मेरी बहन को प्यार करने लगा और बहन से रिक्वेस्ट करने लगा- जानू मान जाओ ना प्लीज … मैं एक बार तुम्हारी गांड की रस मलाई चखना चाहता हूं प्लीज … मान जाओ ना!

मगर मेरी बहन नहीं मानी और अपने कपड़े पहनने लगी.

फिर वो दोनों उधर से बाहर को आने लगे तो हम दोनों अलग हो गए और वो दोनों चले गए.

अब कॉलेज की छुट्टी होने वाली थी.

जब हम रूम से निकले, तो बहन की फ्रेंड प्रिया ने कहा- मेरा भी अभी एक नया बॉयफ्रेंड बना है मगर मैंने अभी तक चुदाई का मजा नहीं लिया है.

मैंने उसकी तरफ देखा और उसकी बात को समझने की कोशिश करने लगा.
शायद प्रिया की चुत में लंड के लिए आग लग गई थी.

मैं आपको प्रिया की चुत चुदाई की कहानी अगली बार लिखूंगा, अभी तो आप मेरी बहन की चुदाई की कहानी का मजा लो.

उसके बाद मैं अपनी बहन से मिला और उसे साथ लेकर घर आ गया.

मेरी बहन घर आकर चुपचाप टॉयलेट में गई और अपनी चूत साफ करने लगी.

मैं दरवाजे के नीचे से बहन को चूत साफ करते देख रहा था.

अचानक बहन को लगा कि कोई उसे देख रहा है.

बहन ने एकदम से दरवाजा खोला, तो मैं लेटे हुए झांक कर उसको देख रहा था.

बहन ने मुझको देखा और वो चिल्लाई- साले तू ये क्या कर रहा था … शाम को मम्मी को आने दे मैं उन्हें सब बताऊंगी.
मैं कुछ नहीं बोला और चुपचाप अपने रूम में चला गया.

कुछ देर बाद मेरी बहन कमरे में आई और उसने कहा- आज तेरी तो खैर नहीं.
मैंने उसे देखते हुए कहा- तुम भी चिंता मत करो … मैं भी मम्मी को सब बता दूंगा.

मेरी बहन ने कहा- क्या बता देगा?
मैंने उससे पूछा- तुम कॉलेज में कहां थी?

मेरी बहन ने कहा- मैं अपनी क्लास में थी और कहां थी.
मैंने उससे कहा- झूठ मत बोलो, मुझे सब मालूम है कि तुम कहां पर थी.

मेरी बहन ने सहमते हुए पूछा- कहां पर थी?
मैंने बताया- तुम अपने क्लासमेट के साथ कॉलेज के स्टोर रूम में क्या कर रही थी … मुझे सब मालूम है. मेरा मुँह न खुलवाओ.

अब मेरी बहन सोच रही थी कि ये सब बात इसे कैसे पता चली.

मेरी बहन ने पूछा- तुझे कैसे पता?
मैंने बोला- उस समय मैं वहीं पर था और सब कुछ देख रहा था.

ये सुनकर पूजा डर गई और बोली- चल ठीक है … मैं मम्मी को कुछ नहीं बताऊंगी, तू भी मत बताना.
फिर मैंने पूजा से पूछा- ये सब तेरे को अच्छा लगता है?

मेरी बहन ने कहा- नहीं.
मैं- तो फिर तूने अपने कॉलेज में क्यों किया?

वो बोली- अब तुम इस बात को भूल जाओ.
मैंने कहा- पूजा मैं तुमसे एक बात और पूछना चाहता हूँ.

वो बोली- हां पूछो, क्या पूछना है?
मैं- तुमको सेक्स करके कैसा लगा?

मेरी बहन ने मेरी बात का कोई जवाब नहीं दिया.

मैंने फिर से पूछा- प्लीज बताओ ना … कैसा लगा तुमको?
उसने कहा- अच्छा लगा.

फिर मैंने उसके सामने अपने मन की बात रख दी और उससे कहा- मुझे तुम्हारा सेक्स देखकर काफी अच्छा लगा.
मेरी बहन बोली- पागल हो क्या … भला अपनी बहन से कोई ऐसी बातें करता है क्या?

मैंने उसको सब कुछ बता दिया और कहा- मैंने सेक्स में देखा है, उसको देखने में भी बहुत मजा आता है.
मेरी बात सुनकर मेरी बहन ने कहा- हां वो तो है.

फिर मैंने उससे कहा- मैं एक बात कहूं … तुम बुरा तो नहीं मानोगी!
पूजा बोली- नहीं, बोलो क्या बात है?

मैंने कहा- मैं भी तेरी चूत पीना चाहता हूं.
पूजा ने कहा- पागल हो गए हो गया … मैं तुम्हारी बहन हूं. यह सब कहना तुमको शोभा नहीं देता.

मेरी बहन ने मुझे साफ मना कर दिया.

मैंने कहा- यार मान जाओ ना प्लीज.
वो मना करने लगी.

मैंने कहा- अरे यार, तुम ये ही सोच लेना कि पंकज तेरे साथ है और वो ही तेरी चूत चाटने के लिए बोल रहा है.
आखिर मेरी बहन ने मानते हुए कहा- ठीक है … सिर्फ एक बार होगा … फिर कभी नहीं कहोगे.
मैंने कहा- ओके पूजा थैंक्स.

मैं ये देख कर हैरान हो गया कि मेरी बहन ने उसी समय अपना स्कर्ट को ऊपर कर दिया और बिना पैंटी की चुत दिखाते हुए कहा- ले चूस ले अपनी बहन की चूत.

जब मैंने अपनी बहन की चूत चाटी, तो मजा आ गया.
बड़ा नमकीन स्वाद था मेरी बहन की चूत का!

मैं उसकी चूत का रस पीने में लगा हुआ था.
उसी समय मेरी बहन को सेक्स चढ़ने लगा और वो सिसकारियां लेने लगी- आआ आआह … आ यस चूसो आह … और चाटो अपनी बहन की चूत … आह इसका रस पी जाओ आकाश!

मेरी बहन वासना भरी सिसिकारियां ले रही थी.
उसी समय मुझे याद आया कि पंकज ने मेरी बहन से कहा था कि मुझे तुम्हारी गांड का रस पीना है. मेरी बहन ने गांड मराने से मना कर दिया था.

मैंने चुपचाप जीभ नीचे करके अपनी बहन की गांड चाट ली.

मेरी बहन बोली- आह ये तुम क्या कर रहे हो?
मैंने कहा- कुछ नहीं यार … तेरी चूत का रस पीने में लगा हुआ हूं … बस एक बार तेरी गांड का भी स्वाद ले लिया.

मेरी बहन ने कहा- चूत चाटनी है, तो चाटो … गांड मत चाटना.

मैंने कहा- पूजा, तूने पंकज को मना कर दिया था मगर मैं तो तेरा भाई हूँ. क्या मेरा हक नहीं है कि मैं तुम्हारी चूत और गांड का रस पी सकूं!
पूजा ने कहा- चल ठीक है … पीछे भी चाट ले.

अब मैं अपनी बहन की गांड चाटने लगा और इसमें मेरी बहन को भी मजा आने लगा था.
मेरी बहन अपनी गांड का छेद खुल बंद कर रही थी और मैं मजे से उसकी गांड चाटने में लगा हुआ था.

कुछ देर बाद मैंने उससे कहा- पूजा, सही से चाटने तो दो मुझे … क्या लुक लुक कर रही हो. क्या तुमको मजा नहीं आ रहा है?

ये सुनकर मेरी बहन ने थोड़ी ढील दे दी और अपनी गांड का छेद खोल दिया.
मेरी पूरी जीभ अब मेरी बहन की गांड में घुस गई और मैं मजे से अपनी बहन की गांड चुत चाटने लगा.

कुछ देर बाद मैंने कहा- यार पूजा, मैं तेरी चूत को एक बार चोदना चाहता हूँ.

अब तक मेरी बहन भी चुदासी हो गई थी. उसने कहा- आ जा मेरे भैनचोद भाई … चोद ले अपनी बहन की चूत.

मैंने अपना लंड अपनी बहन की चूत पर रखा और अन्दर पेल दिया. बड़ी आसानी से मेरा लंड चुत के अन्दर चला गया.

मेरी बहन मेरे लंड से चुदने के मजे लेने लगी और बोली- साले तू अभी इतना छोटा है … मगर तेरा लंड काफी मोटा और लम्बा है … ये कैसे हुआ?

मैंने अपनी बहन को चोदते हुए उसे बताया- पूजा, मैं हैंडप्रेक्टिस करता हूं, इसलिए मेरा लंड इतना बड़ा है.
मेरी बहन ने गांड उठाते हुए पूछा- कब से कर रहे हो ये सब?

मैंने बताया- जबसे मैं जवान हुआ, तभी से कर रहा हूं. तुमको एक राज की बात बताऊं?
वो बोली- हां बताओ क्या बात है?

मैंने कहा- पूजा, मैं तेरी गांड का बहुत बड़ा दीवाना हूँ. मेरा बहुत मन था कि मैं तेरी गांड का रस पीने को मिल जाए तो मजा आ जाए. आज तूने मेरी इच्छा पूरी कर दी थैंक्स पूजा.
पूजा- अच्छा, मुझे तो मालूम ही नहीं था कि तुम भी मेरी गांड के दीवाने हो. चलो एक बात तो पता चली कि मेरा भाई भी मेरी गांड का दीवाना है. अच्छा ये बताओ मेरी गांड में ऐसा तुम्हें क्या अच्छा लगा?

मैंने कहा- जब तुम अपनी गांड मटका कर चलती हो, तो मैं तेरी गांड देख कर खुश हो जाता हूं. तेरी गांड जब हिलती है, तो मेरा लंड खुश हो जाता है.
पूजा- अच्छा चलो, अब जल्दी मेरी चूत चोदो.

मैं- यार पूजा, तेरी चूत के साथ एक चीज और मिल जाए तो मजा आ जाए.
वो बोली- क्या?

मैंने कहा- तुम मना तो नहीं करोगी?
वो बोली- नहीं मना करूंगी … बोलो?

मैं- मैं तुम्हारी गांड मारना चाहता हूँ.
ये सुनकर उसने तुरन्त मना कर दिया और बोली- केवल चूत चोदने मिलेगी, गांड नहीं.

मैंने कहा- यार मान जाओ ना प्लीज … मुझे एक मौका दो, मैं दर्द नहीं होने दूंगा.
बहन ने कहा- बिल्कुल नहीं.

मैंने बोला- यार मैं तो तुम्हारा अपना भाई हूँ, कोई बाहर का नहीं … पंकज तो बाहर का है. मेरे लंड को तो एक बार अपनी गांड का रस चख लेने दो.
कुछ देर बाद मेरी बहन मान गई.

वो बोली- पहले चूत तो पूरी तरह से चोद ले … गांड भी दे दूंगी. लेकिन मेरी एक शर्त है कि मेरी गांड में बिल्कुल दर्द नहीं होना चाहिए.
मैंने कहा- ठीक है पूजा, जैसा तुम बोलोगी, वैसे ही करूंगा.

पूजा- वैसे एक ऑफर भी है तुम्हारे लिए. अगर मुझे गांड मराने में मज़ा आ गया … तो हमेशा के लिए ये गांड तुम्हारी!

मैं ये सुनकर खुशी के मारे पागल सा हो गया और मजे लेते हुए बहन की चूत चोदने लगा.

बीस मिनट बाद मैं बहन की चूत में झड़ गया.

फिर मैंने उससे कहा- पूजा मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसो न!

पूजा पलंग से उठी और मेरा लंड अपने मुँह में लेकर चूसने लगी.

मैं काम भरी सिसकारियां ले रहा था- आहा अहा … चूसो और चूसो!
पूजा बोली- मज़ा आ रहा है ना आकाश!

मैंने बोला- हां यार, बहुत मज़ा आ रहा है … तुम कितनी अच्छी हो, काश मुझे तुम्हारे बारे में पहले क्यों नहीं पता चला.
वो बोली- कोई बात नहीं … अब तो पता चल गया ना!

मैं बोला- अब तुमको कहीं बाहर जाने की भी जरूरत नहीं है. अब मैं रोज तुमको प्यार से चोदूंगा और तुम्हारी गांड भी मारूंगा.
वो हंस दी.

मैंने उससे कहा- अब तुम डॉगी स्टाइल में पोजीशन ले लो.
मेरी बहन अपने भाई के सामने कुतिया बन गई.

मैं पीछे से अपनी बहन की गांड चाटने लगा. पांच मिनट बाद मैंने अपना लंड उसकी गांड पर सैट किया और मेरा लंड का टोपा अन्दर चला गया.

बहन की चीख निकल गई और वो कहने लगी- बाहर निकाल अपने लंड को.
मैंने लंड गांड से बाहर निकाला.

बहन ने कहा- जा मेरे कमरे से सरसों के तेल की शीशी लेकर आ!

मैं तेल की शीशी लेकर आ गया और उसकी गांड की मालिश करने लगा.
मैंने अपने लंड पर भी तेल लगा लिया.

मेरी बहन बोली- अब तू बहन की गांड मार … तुझे भी मज़ा आएगा और मुझे भी!
मैंने पूछा- तूने कभी किसी से अपनी गांड मरवाई नहीं है, तो फिर तुमको कैसे पता है कि दोनों को मज़ा आएगा!
उसने बताया- मैं अपनी चूत और गांड में रोज रात को उंगली डालती हूँ.

फिर मैंने अपना लंड अपनी बहन की गांड पर सैट किया और अन्दर डाल दिया.
तेल के कारण लंड फिसलता हुआ बहन की गांड में घुस गया.

मेरी बहन अपनी गांड में मेरा लंड लेकर बोली- आह … अब दर्द कम हो रहा है.

मैं अपनी बहन की गांड मारता रहा और उसको भी मज़ा आने लगा.
बहन की गांड में मैं लंड की तेज ठोकर मारता तो मेरी बहन मस्त मस्त सिसकारियां लेते हुए गांड हिला रही थी.

उसकी कामुक आवाजें आ रही थीं- आह चोद दे अपनी बहन की गांड आह फाड़ दे गांड … मजा आ रहा है.

अब मैं कभी अपनी बहन की चूत में लंड डाल देता, तो कभी गांड में.

मैंने काफी देर तक अपनी की गांड चुत चोदी और झड़ गया.
इस तरह से एक भाई ने बहन की गांड मारी.

मेरी चुदाई से मेरी बहन की गांड का छेद भी बड़ा हो गया था.

चुदाई के मैंने उससे पूछा- तुमको अपनी चूत और गांड मरा कर कैसा लगा?
उसने खुश होकर मुझे गले लगा लिया और बोली- आकाश, आज से मेरी इस गांड पर अब सिर्फ तुम्हारा हक है.

मैंने उसको थैंक्स कहा और किस किया. हम दोनों थक चुके थे इसलिए हम सो गए.

दोस्तो, आपको ये भाई ने बहन की गांड मारी कहानी कैसी लगी … प्लीज कमेंट करके जरूर बताएं.

लेखक के आग्रह पर इमेल आईडी नहीं दिया जा रहा है.

Posted in Teenage Girl

Tags - babhi ki chudai kahanicollege girldesi ladkigand ki chudaihindi nonveg storynangi ladkinon veg kahanioral sexpublic sexsex with girlfriendmaa sex kahaniसेक्सी खनिया